0 21

तिजारत में झूट बोलने का गुनाह

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : ताजिर लोग बड़े गुनहगार होते हैं। लोगों ने कहा : या रसूलल्लाह (ﷺ) ! क्या अल्लाह तआला ने तिजारत को हलाल नहीं किया?

आप (ﷺ) ने फ़रमाया : “हाँ बेशक, लेकिन वह कसम खा कर गुनहगार होते हैं और बात करते हुए झूट बोलते हैं।”

Install App

Leave a Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More