मदीना में हुजूर (ﷺ) का इस्तिकबाल

कुबा में चौदा दिन कयाम फ़र्मा कर रसूलुल्लाह (ﷺ) मदीना तय्यिबा के लिये रवाना हो गए, जब लोगों को आप के तशरीफ लाने का इल्म हुआ, तो खुशी में सब के सब बाहर निकल आए और सड़क के किनारे खड़े हो गए, सारा मदीना “अल्लाहु अक्बर” के नारों से गूंज उठा, अंसार की बच्चियाँ खुशी के आलम में यह अश्आर पढ़ने लगीं:
“तर्जुमा: “रसूलुल्लाह (ﷺ) की आमद ऐसी है के गोया के वदअ पहाड़ की घाटियों से चौदहवीं का चाँद निकल आया हो, लिहाज़ा जब तक दुनिया में अल्लाह का नाम लेने वाला बाकी रहेगा, उन का शुक्र हम पर वाजिब रहेगा, ऐहम में मबऊस होने वाले! आपमाने वाले अहकामात लाए हैं।”

और बनू नज्जार की लड़कियाँ दफ बजा बजाकर गा रही थीं:
“तर्जुमा: “हम खानदाने नज्जार की लड़कियाँ हैं, मुहम्मद (ﷺ) क्या ही अच्छे पड़ोसी हैं।”

हज़रत अनस बिन मालिक (र.अ) फ़र्माते हैं के मैं ने कोई दिन उस से ज़ियादा हसीन और रौशन नहीं देखा, जिस दिन रसूलुल्लाह (ﷺ) हमारे यहाँ (मदीना) तशरीफ लाए।

To be Continued …

📕 इस्लामी तारीख

और देखे :

Share on:

Trending Post

Leave a Reply

--> Ummate Nabi Android Mobile App