खुश्बू को रद्द नहीं करना चाहिये

0

रसूलल्लाह (ﷺ) को जब खुशबु का हदिया दिया जाता, तो आप (ﷺ) उस को रद्द नहीं फ़रमाते थे।

Leave a Reply