जहन्नुम से नजात की दुआ

रसलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया:

“जब तुम मग़रिब की नमाज़ से फारिग हो जाओ, तो सात मर्तबा यह दुआ पढ लिया करो।

( Allahumma Ajirni Minan Naar )
( ऐ अल्लाह! मुझ को दोजख से महफूज़ रख )

जब तुम इस को पढ़ लो और फिर उसी रात तुम्हारी मौत आजाए तो दोजख से महफूज़ रहोगे और अगर इस दुआ को सात मर्तबा फज़्र की नमाज के बाद (भी) पढ लो और उसी दिन तूम्हारी मौत आजाए तो दोजख से महफूज़ रहोगे।”

📕 अबू दाऊद : ५०७९, अन मुस्लिम बिन हारिस तमीमी (र.अ)

5/5 - (1 vote)

और देखे :

Leave a Reply