नमाज के बाद दूसरी नमाज़ का इंतज़ार करने की फ़ज़ीलत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया:

“तकलीफ और नागवारी के बावजूद पूरी तरह मुकम्मल वुजू करना, मस्जिदों की तरफ जियादा कदम बढ़ाना और एक नमाज के बाद दूसरी नमाज़ का इंतज़ार करना, यह आमाल गुनाहों से (आदमी को) बिलकुल पाक साफ कर देते हैं।”

📕 मुस्तदरक : ४५६

5/5 - (1 vote)

और देखे :

Leave a Reply