Ummat-e-Nabi-Thumbnail-C

बगैर वुजू के नमाज़ और हराम माल से सद्का कबूल नहीं होता

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया: “बगैर वुजू के नमाज़ क़बूल नहीं होती, इसी तरह हराम माल से सद्का कबूल नहीं होता।” … आगे पढ़े