Browsing Tag

Hajj

हज का सुन्नत तरीका हिंदी में

Hajj ka Sunnat tareeqa in Hindi

Contentतारूफ (Intro) हज के फ़र्ज़ होने की दलील हज्ज के फ़र्ज़ होने की शर्तें • हज में एहतियात करने वाली बाते • ख़वातीन और परदे का अहतमाम एहराम की हालत में ममनूअ (मना की हुई) चीज़ें एहराम की हालत में ममनूअ की तीन हालतें फिदिया •…
Read More...

How to perform hajj step by step

1. Have Bath 2. Put on Ihram in Makkah & pray 2 rakat3. Make intention for Hajj and say the talbiyah, 4. On the Day of Arafah, pray Fazr and go to Arafa.5. Pray Zohar and Asar Combined in Arafah. Remember Allah & make Dua…
Read More...

पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) का विदायी अभिभाषण (इस्लाम में मानवाधिकार)

पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) ईश्वर की ओर से, सत्यधर्म को उसके पूर्ण और अन्तिम रूप में स्थापित करने के जिस मिशन पर नियुक्त किए गए थे वह 21 वर्ष (23 चांद्र वर्ष) में पूरा हो गया और ईशवाणी अवतरित हुई : ‘‘...आज मैंने तुम्हारे दीन (इस्लामी जीवन…
Read More...

हज की हिकमत – हज का असल मकसद (Hajj ki Hikmatain aur Maksad)

यह बात हर मुसलमान जानता है कि हज इस्लाम की बुन्यादों में से एक है, और हज अदा करने के फज़ाईल भी लोग आम तौर पर जानते ही हैं लेकिन अक्सर मुसलमान "हज की हिकमत" से अनजान हैं और जिस इबादत से हिकमत निकल जाती है वह इबादत एक बेजान जिस्म की तरह रह…
Read More...

Haaji Ka Laqab Lagana Kaisa ?

✦ Sawaal: Apne Naam ke aagey 'Haaji' ka Laqab lagana kaisa? - Jawab: Hajj ek aisi ibadat hai jo har Sahibe Istehat Musalmano par farz hai, lekin Hajj ki Niyat sirf Allah ki ibadat ho aur dikhawe se paak ho. bilkhusus Hajj wo ibadat hai jo…
Read More...

जानिए – रोज़ा क्या और क्यों ?

इंसान के बुनियादी सवाल !!! इस सम्पूर्ण विश्व और इंसान का अल्लाह (ईश्वर) एक है। ईश्वर ने इंसान को बनाया और उसकी सभी आवश्यकताओं को पूरा करने का प्रबंध किया। इंसान को इस ग्रह पर जीवित रहने के लिए लाइफ सपोर्ट सिस्टम दिया।इंसान को उसके मूल…
Read More...

Talbiyah Ka Bayan: Labbaik Allahumma Labbaik

✦ Hadith: Sahl bin Saad As-Saidi (R.A.) se riwayat hai ki, Rasool'Allah (ﷺ) ne farmaya - ❝ Jab Talbiyah padhne wala talbiyah kehta hai tou uske daayen aur baayen zameen ke dono kinaaro tak sab patthar, darakht aur dhele bhi talbiyah kehte…
Read More...