“ऐ ईमान वालो तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो और जो शैतान के नक्शे कदम पर चलेगा, तो शैतान तो बे हयाई और बुरी बातों का हुक्म करता है।”

[ सूरह नूर: २१ ]

ऐ ईमान वालो!  तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो

“ऐ ईमान वालो तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो और जो शैतान के नक्शे कदम पर चलेगा, तो शैतान तो बे हयाई और बुरी बातों का हुक्म करता है।”

[ सूरह नूर: २१ ]

ऐ ईमान वालो!  तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो

“ऐ ईमान वालो तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो और जो शैतान के नक्शे कदम पर चलेगा, तो शैतान तो बे हयाई और बुरी बातों का हुक्म करता है।”

[ सूरह नूर: २१ ]

ऐ ईमान वालो!  तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो

“ऐ ईमान वालो तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो और जो शैतान के नक्शे कदम पर चलेगा, तो शैतान तो बे हयाई और बुरी बातों का हुक्म करता है।”

[ सूरह नूर: २१ ]

ऐ ईमान वालो!  तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो