जख्म वगैरह का इलाज

हजरत आयशा (र.अ) फ़र्माती हैं : अगर किसी को कोई ज़ख्म हो जाता या दाना निकल आता, तो । आप

नज़रे बद का इलाज

एक शख्स को नजर लग गई, तो रसूलुल्लाह (ﷺ) ने उसके सीने पर हाथ मार कर यह दुआ फरमाई: तर्जुमा

हर बीमारी का इलाज

एक मर्तबा हज़रत जिब्रईल (अ) रसूलुल्लाह (ﷺ) के पास तशरीफ़ लाए और पूछा: ऐ मुहम्मद (ﷺ) ! क्या आप को

दाढ़ के दर्द का इलाज

एक मर्तबा हजरत अब्दुल्लाह बिन रवाहा (र.अ) ने हुजूर (ﷺ) से दाढ में शदीद दर्द की शिकायत की, तो आप

वरम (सूजन) का इलाज

हज़रत अस्मा (र.अ) के चेहरे और सर में वरम हो गया, तो उन्होंने हजरत आयशा (र.अ) के जरिये आप (ﷺ)

खजूर से इलाज

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़ारमाया : “जचगी की हालत में तुम अपनी औरतों को तर खजूर खिलाओ और अगर वह न

निमोनिया का इलाज

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने निमोनिया के लिये वर्स, कुस्त और रोग़ने जैतून पिलाने को मुफीद बतलाया है। फायदा : “वर्स” तिल

गाय के दूध में शिफा है

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “गाय का दूध इस्तेमाल किया करो, क्योंकि वह हर किस्म के पौधों को चरती है

close
Ummate Nabi Android Mobile App