Browsing Tag

Zinaa

Jo Shakhs Nikah karey aur Mehar dene ki Niyat na ho usney Zinaa kiya

जो शख्स अपनी पत्नी से मेहर का भुगतान नहीं करने के इरादे से शादी करता है वह जानी (व्यभिचारी) है।

۞ Hadees: Abu Hurairah (R.A) se riwayat hai ke, Rasool-e-Kareem (ﷺ) ne farmaya:❝Jo shakhs nikah karey aur Mehar dene ki Niyat na ho usney Zinaa kiya aur jo shakhs Udhaar(Qarz) le aur wapas dene ki niyat na ho usney daka dala.❞ 📕…
Read More...

Zinaa ke qareeb mat jao kyunki yah badi behayayi aur bohot bura rasta hai

ज़िना (व्यभिचार) के पास भी न फटकना क्योंकि बेशक वह बड़ी बेहयाई का काम है और बहुत बुरा चलन है।"

۞ Quran-e-Kareem me Allah Ta'ala farmata hai: "Zinaa ke qareeb mat jao kyunki yah badi behayayi aur bohot bura rasta hai." 📕 पवित्र कुरआन; सूरह अल इस्रा 17:32۞ कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है : "और (देखो) ज़िना (व्यभिचार) के…
Read More...