Browsing Tag

Best Hadees in Hindi

इस्लाम सुलह और शांति सिखाता है

♥ मफहूम-ऐ-हदीस ﷺ अल्लाह के नबी (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) ने एक रोज़ सहाबा से फ़रमाया: "क्या मै तुम्हे उस चीज़ के बारे में न बता दू जिसका दर्जा रोज़े , नमाज़ , सदके से भी ज्यादा ?" लोगो ने जवाब दिया: ए अल्लाह के रसूल! हमे जरुर बताये!आप…
Read More...

Sharab se bacho kyunki wo har burayi ki chabi hai

❝ शराब से बचो इसलिए क्यूंकि वो हर बुराई की चाबी है।❞अल्लाह के अंतिम पैगम्बर (ﷺ) (हदिस: मुस्तदरक: ७३१३)❝ Sharab se bacho isiliye kyunki wo har burayi ki chabi hai.❞Allah ke Rasool (ﷺ) (Hadith: Mustadrak: 7313)…
Read More...

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 4

दज्जाल कौन है? कहा है? और कब निकलेगा? ✦ दज्जाल कौन है? दज्जाल कौन है इस हवाले से मुख्तलिफ बाते की जाती रही है, बाज तो इतनी मजाहका खेज है कि बे अख्तियार हंसी आती है, हम इनसे सिर्फ नजर करते हुए यहा तीन मशहूर कौल जिक्र करके इन पर तबसीरा करते…
Read More...

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 6

दज्जाल के मुतालिक जो तीन कौल मशहूर है के ये दज्जाल है उनमे पहला सामरी जादूगर, दुसरा हैरम आबीफ तीसरा है अमेरिका। आईये इस पार्ट में अमेरिका पर एक नजर  डालते है। ३. अमेरिका" बाज हजरात का कहना है कि अमेरिका दज्जाल है, क्योंकि दज्जाल की भी एक…
Read More...

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 2

✦ दज्जाल का नाम और इसका मतलब: यहुदी अपने इस नजात दहिन्दा का आखिरी नाम यबुल, युबील, या हुबल बताते है, जो हमारी इस्लामी इस्तलाह मे तागुत और बुतो का नाम है और इसका लकब इनके यहा مسیحا या مسیا है।दज्जाल का असल नाम मालूम नही, क्योंकि हदीस मे…
Read More...

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 5

दज्जाल कौन है? कहा है? और कब निकलेगा? दज्जाल कौन है इस हवाले से बाज़ हज़रात का दुसरा कौल है के वो "हैरम आबीफ" है। २.हैरम आबीफ : बाज अहले इल्म की राय है कि इससे हैरम आबीफ (या सखरा आसफ) मुराद है, ये हजरत सुलेमान (अलैहि सलाम) के दौर मे हैकल…
Read More...

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 3

✦ दज्जाल का इरान से ताल्लुक: ❝ दज्जाल के साथ अश्फहान के सत्तर हजार यहुदी होगे जो इरानी चादरे ओढे हुए होगे। (सही मुस्लिम किताब अल फितन हदीस न. 2944) ❝ दज्जाल कौम यहुद से होगा। (सही मुस्लिम किताब अल फितन हदीस न. 2937) अश्फहान इरान आबाद का…
Read More...

जिसकी बुनियाद शरीयत मे नही ऐसा काम दीन मे ईजाद करना मरदूद है

हजरते आयेशा (रज़ीअल्लाहु अन्हा) से रिवायत है की, रसूलअल्लाह (ﷺ) ने फरमाया: “जिसने दीन मे कोई ऐसा काम किया जिसकी बुनियाद शरीअत में नहीं वो काम मरदूद है।” - (सुनन इब्न माजाह, हदीस 14) ✦ वजाहत: मसलन वो तमाम आमाल जिन्हे हम नेकी और सवाब…
Read More...

इस्लाम से पहले क्या था – What was the before Islam ?

✦ प्रायः यह पूछा जाता है कि इस्लाम से पहले कौन सा धर्म था ? ✦ अगर इस्लाम ही सच्चा धर्म है तो क्या उससे पहले के व्यक्ति की मुक्ति कैसे होगी ?. यह अक्सर प्रश्न नॉन-मुस्लिम भाई पूछते रहते हैं। वैसे इसका एक मुख्य कारण है क्यूं कि वे समझते हैं…
Read More...

अल्लाह और आखिरत(महा प्रलय) के दिन पर ईमान रखने वाले इन बातो पर जरुर ध्यान दे

✦ हज़रत अबू हुरैरह रज़िअल्लाहु अन्हु रिवायत करते हैं कि नबी सलल्लाहो अलैहि वसल्लम ने फरमाया “जो कोई भी अल्लाह और आखिरी दिन पर ईमान रखता है, वो दूसरों के साथ या तो भले तरीके से अच्छे अल्फाज़ मे बात करे, नहीं तो खामोश रहे, ! जो कोई भी अल्लाह…
Read More...

दुआ इबादत है – तो इबादत के उसूल – हदीस की रौशनी में

♥ मह्फुम ऐ हदीस: हजरत अब्दुल्लाह इब्न अब्बास (रज़ि0) का बयान है कि एक दिन मैं अल्लाह के अन्तिम रसूल मुहम्मद (सलाल्लाहो अलैहि वसल्लम) के पीछे सवारी पर बैठा था कि आपने फऱमायाः ऐ बेटे! मैं तुम्हें कुछ बातें सिखाता हूं: अल्लाह को याद रख,…
Read More...

हदिस का परिचय – हदीस पर अमल की जरुरत

पवित्र क़ुरआन के बाद मुसलमानों के पास इस्लाम का दूसरा शास्त्र अल्लाह के रसूल मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) की कथनी और करनी है जिसे हम हदीस और सीरत के नाम से जानते हैं। हदिस की परिभाषाः हदीस का शाब्दिक अर्थ है: बात, वाणी और ख़बर।…
Read More...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More