Categories

4 रजब | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

4 Rajjab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हज़रत उमर (र.अ) की बहादुरी, हज़रत अली (र.अ) की आँख का ठीक हो जाना, जकात की फर्जियत, दुनिया व आखिरत की भलाई की दुआ, शौहर की खुशी पर जन्नत, सच्ची गवाही को छुपाने का गुनाह, दुनियावी ज़िन्दगी धोका है, कब्र में ही ठिकाने का फैसला, खजूर से इलाज, लोगों के लिये वही चीज पसंद करो जो तुम अपने लिये पसंद करते हो…