तहज्जुद की निय्यत कर के सोना

रसूलल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया :

“जो आदमी अपने बिस्तर पर लेटते वक्त रात को उठ कर (तहज्जुद की) नमाज पढने की निय्यत करे फिर नींद के गलबे की वजह से सुबह हो जाए तो निय्यत के मुताबिक उसको नमाज का सवाब मिलेगा और (हुस्ने निय्यत की वजह से) उस का सोना अल्लाह की तरफ से उसके लिये सदक़ा है।”

📕 निसाई : १७८८

4.8/5 - (12 votes)

Leave a Comment