तबीअत के मुवाफिक ग़िज़ा से इलाज

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया :

“जब मरीज़ कोई चीज खाना चाहे, तो उसे खिलाओ।”

📕 कन्जुल उम्माल : २८१३७

फायदा: जो गिजा चाहत और तबी अत के तकाजे से खाई जाती है,
वह बदन में जल्द असर करती है, लिहाजा मरीज़ किसी चीज़ के खाने का तकाज़ा करे,
तो उसे खिलाना चाहिये। हाँ अगर गिजा ऐसी है के जिस से
मर्ज बढ़ने का कवी इमकान है, तो जरूर परहेज करना चाहिये।

5/5 - (1 vote)

और देखे :

Leave a Reply