तबीअत के मुवाफिक ग़िज़ा से इलाज

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया :

“जब मरीज़ कोई चीज खाना चाहे, तो उसे खिलाओ।”

फायदा: जो गिजा चाहत और तबी अत के तकाजे से खाई जाती है,
वह बदन में जल्द असर करती है, लिहाजा मरीज़ किसी चीज़ के खाने का तकाज़ा करे,
तो उसे खिलाना चाहिये। हाँ अगर गिजा ऐसी है के जिस से
मर्ज बढ़ने का कवी इमकान है, तो जरूर परहेज करना चाहिये।

📕 कन्जुल उम्माल : २८१३७

और देखे :

Share on:

Trending Post

Leave a Reply

close
Ummate Nabi Android Mobile App