सोने के आदाब (सुन्नत)

रसूलुल्लाह (ﷺ) जब सोने का इरादा करते तो अपने दाहने हाथ को दाहने गाल के नीचे रख कर सोते फिर तीन बार यह दुआ पढ़ते :

(Allahumma qinee ‘adhabaka yawma tab’athu ‘ibadaka)

तर्जुमा: (ऐ अल्लाह! मुझे (उस दिन) अपने अ़ज़ाब से बचा, जिस दिन तू अपने बन्दों को उठायेगा।

📕 अबू दाऊद : ५०४५

VIEW MORE

Share on:

Trending Post

Leave a Reply

close