Showing 40 of 805 Results

हजरत अबूज़र गिफारी (र.अ)

हजरत अबू ज़र गिफ़ारी (र.अ) का पूरा नाम जुंदुब बिन जुनादा था, हजरत अबू ज़र पहले शख्स हैं जिन्होंने हुजूर (ﷺ) की पहली मुलाकात के वक़्त अस्सलामु अलैकूम कहा था; […]

सब के साथ हुस्ने सुलूक (अच्छा बर्ताव) करो

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है : “तुम सब अल्लाह की इबादत करो, उस के साथ किसी को शरीक न करो, माँ बाप, रिश्तेदारों, यतीमों, मिस्कीनों, करीबी पड़ोसियों और दूर […]

बेजा ज़ीनत से बचना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “आदमी के लिए मुनासिब नहीं के वह नक्श व निगार वाले घर में दाखिल हो।” 📕 बैहकी शोअबुल ईमानः १०३२६

सहाबा की सीरत को दागदार बनाने का गुनाह

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “मेरे सहाबा के बारे में अल्लाह से डरते रहना, मेरे बाद उनको निशाना मत बनाना। जो उनसे मुहब्बत करेगा वह मुझसे मुहब्बत की बिना पर […]

मुसाफा करने की फ़ज़ीलत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “जब दो मुसलमान मिलते हैं और एक दूसरे से मुसाफह करते हैं (यानी हाथ मिलाते हैं) तो उनके जुदा होने से पहले पहले दोनो की […]

नमाजे अस्र की अहमियत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “जिस शख्स ने अस्र की नमाज़ छोड़ दी, तो उस का अमल जाया हो गया।” 📕 बुखारी : ५५३. अन बुरैया (र.अ) वजाहत: दिन और […]

नींद अल्लाह की अज़ीम नेअमत

अल्लाह तआला ने इन्सान को बेशुमार नेअमतों से नवाजा है, उन्हीं में से एक अजीम नेअमत नींद है, जब आदमी सो जाता है तो उस का एहसास व शुऊर खत्म […]

इस्लाम पर कायम रहना

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है : “ऐ ईमान वालो ! अल्लाह से डरते रहो जैसा के उस से डरने का हक्र है और मरते दम तक इस्लाम पर क़ाएम […]

मौसमी फलों के फवाइद

कुरान में अल्लाह तआला फ़र्माता है “जब वह दरख्त फ़ल ले आएँ तो उन्हें खाओ।” 📕 सूरह अनाम: १४१ फायदा: मौसमी फलों का इस्तेमाल सेहत के लिए बेहद मुफीद है […]

हज़रत मिकाईल की हालत

आप (ﷺ) ने हज़रत जिब्रईल से दर्याप्त फ़रमाया : “क्या बात है ? मैं ने मिकाईल (फ़रिश्ते) को हंसते हुए नहीं देखा?“अर्ज़ किया: जब से दोज़ख की पैदाइश हुई है, […]

इख्तेलाफ़, निफ़ाक और बुरे अख्लाक से अल्लाह की पनाह मांगना

रसूलुल्लाह (ﷺ) अक्सर यह दुआ किया करते थे : तर्जमा: “ऐ अल्लाह ! मैं आपस के इख्तेलाफ़, निफ़ाक और बुरे अख्लाक से तेरी पनाह चाहता हूँ।” 📕अबू दाऊद : १५४६

कयामत के दिन जमीन का लरज़ना

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है : “जब ज़मीन पूरी हरकत से हिला दी जाएगी और जमीन अपने बोझ (मुर्दे और खज़ाने) बाहर निकाल देगी और इन्सान कहेगा के इस […]

दुनिया का कोई भरोसा नहीं

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “इस दुनिया की मिसाल उस कपड़े की सी है, जिस को शुरू से काट दिया जाए और आखीर में एक धागे पर लटका हुआ रह […]

झूठी कसम खाने का वबाल

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “जो शख्स झूटी कसम खाए, ताके उस के ज़रिए किसी मुसलमान का माल हासिल कर ले, तो वह अल्लाह तआला से इस हाल में मुलाकात […]

तेल (Oil) में अल्लाह की क़ुदरत

अल्लाह तआला ने नारियल, मूंगफली, सूरजमुखी, सरसों वगैरह के ऐसे बेशुमार पेड़ पौधे बनाए हैं जिसके जरिए हमें मुख्तलिफ़ किस्म का खुशबूदार तेल हासिल होता है और हमारे खाने, लगाने […]

औरंगज़ेब आलमगीर (रह.)

औरंगजेब आलमगीर (रह.) शाहजहाँ के तीसरे बेटे पंद्रह जीकादा सन १०२७ हिजरी में अर्जुमंद बानो (मुमताज़ महल) के बत्नसे पैदा हुए, इब्तिदाई तालीम शेख अबुल वाइज़ हरगामी से और इल्म […]

हज़रत जैनब बिन्ते रसूलुल्लाह (ﷺ)

 हज़रत जैनब हुजूर (ﷺ) की सब से बड़ी साहबजादी (बेटी) थीं, नुबुव्वत मिलने से तकरीबन दस साल पहले हजरत खदीजा (र.अ) से पैदा हुई, रसूलुल्लाह (ﷺ) की दावत के शुरु […]

मोहब्बत पाने का तरीका

एक शख्स ने रसूलुल्लाह (ﷺ) से अर्ज किया : ऐ अल्लाह के रसूल ! मुझे कोई ऐसा अमल बंता दीजिये जिसको मैं करूं ताके अल्लाह तआला और लोग मुझसे मुहब्बत […]

सच्ची गवाही को छुपाने का गुनाह

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है : “तुम गवाही मत छुपाया करो और जो शख्स इस (गवाही) को छुपाएगा, तो बिला शुबा उस का दिल गुनहगार होगा और अल्लाह तआला […]

कयामत के दिन पूरा पूरा बदला दिया जाएगा

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है : “जब हम उन लोगों को उस दिन जमा करेंगे, जिस के आने में कोई शक नहीं और हर एक आदमी को उस के […]

किसी के सतर को देखने का गुनाह

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “अल्लाह तआला लानत करता हैं, उस शख्स पर जो जान बूझ कर किसी के सतर को देखता हो और उस पर भी लानत है जो […]

बात ठहर ठहरकर और साफ साफ़ करना

हजरत आयशा (रजि०) फरमाती  है के, “हुजूर (ﷺ) की बात जुदा जुदा होती थी, जो सुनता समझ लेता था।” 📕 अबू दाऊदः हदीस 4839 फायदा: जब किसी से बात करे, […]

पहाड़ों में कुदरत का नमूना

पहाड़ों में कुदरत का नमूना अल्लाह तआला ने ज़मीन पर बुलंद और ऊँचे ऊँचे पहाड बनाए, जिस की चोटियों बादलों से भी ऊपर तक पहुंची हुई होती है और फिर […]

जमीन पर अकड़ कर मत चलो

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है : “जमीन पर अकड़ कर मत चलो (क्योंकि) तुम न तो जमीन को फाड़ सकते हो और ना तन कर चलने से पहाड़ों की […]

दुनिया में खुद को मशगूल न करो

रसुलअल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “तुम में से कयामत के दिन मुझ से ज़ियादा करीब वह शख्स होगा, जो दुनिया से उसी तरह निकल आए, जिस तरह मैं छोड़ कर […]

कीसी की तकलीफ दूर करने का सवाब: हदीस

किसी की तकलीफ दूर करने का सवाब: हदीस रसूलअल्लाह (ﷺ) फरमाते है: “जिस शख्स ने किसी मुसलमान की दुनियावी मुश्किलात (तकलीफ) में से कोई मुश्किल दूर की तो अल्लाह तआला […]

सब से बेहतरीन दवा

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया:  “सबसे बेहतरीन दवा कुरआन है।” 📕 इब्ने माजा: ३५३३ फायदा : उलमाए किराम फर्माते हैं के क़ुरआनी आयात के मफ़हूम के मुताबिक जिस बीमारी के लिए जो […]

मजलिस में जाये तो सलाम करे

मजलिस में जाये तो सलाम करे ۞ हदीस: रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “जब तुम में से कोई आदमी मजलिस में जाए, तो सलाम करे और फिर जी चाहे, तो मजलिस में शरीक […]