मय्यित का कर्ज अदा करना

हजरत अली (र.अ) फ़र्माते हैं के रसुलल्लाह (ﷺ) ने कर्ज को वसिय्यत से पहले अदा करवाया, हालाँकि तुम लोग (कुरआन पाक में) वसिय्यत का तजकेरा कर्ज से पहले पढ़ते हो। 

फायदा: अगर किसी शख्स ने कर्ज लिया और उसे अदा करने से पहले इन्तेकाल कर गया, तो कफन दफन के बाद माले वरासत में से सबसे पहले कर्ज अदा करना जरूरी है, चाहे सारा माल उस की। अदायगी में खत्म हो जाए।

📕 तिर्मिज़ी : २१२२

और देखे :

Share on:

Trending Post

Leave a Reply

close
Ummate Nabi Android Mobile App