दुआ के कलिमात को तीन बार कहना

रसूलल्लाह (ﷺ) दुआ व इस्तिगफार के कलिमात को तीन तीन मर्तबा दोहराना पसन्द फ़र्माते थे।

यह भी पढ़े: Astaghfar ka Taruf, Ahmiyat, Fazilat aur Dua

📕 अबू दाऊद: १५२४

और देखे :

Share on:

Trending Post

Leave a Reply