दीन-ऐ-इस्लाम में नमाज़ की अहमियत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया :

“दीन बगैर नमाज़ के नहीं है, नमाज़ दीन के लिये ऐसी है जैसा आदमी के बदन के लिये सर होता है।”

📕 तबरानी औसत: २३८३

और देखे :

Share on:

Trending Post

Leave a Reply

close
Ummate Nabi Android Mobile App