Roman Urdu

हज़रत मुहम्मद (ﷺ) और बौद्ध धर्म ग्रन्थ (डा. एम.ए.श्रीवास्‍तव)

0 5,630

डा. एम. ए. श्रीवास्‍तव नें एक पुस्तक लिखी (हज़रत मुहम्‍मद सलल्लाहो अलैहि वसल्लम और भारतीय धर्मग्रन्‍थ) अपनी इस पुस्तक की भूमिका में वह लिखते हैं-
हज़रत मुहम्मद (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) के आगमन की पूर्व सूचना हमें बाइबिल, तौरेत और अन्य धर्मग्रन्थों में मिलती है, यहाँ तक कि भारतीय धर्मग्रन्थों में भी आप (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) के आने की भविष्यवाणियाँ मिलती हैं। वैदिक, बौद्ध और जैन धर्म की पुस्तकों में इस प्रकार की पूर्व-सूचनाएं मिलती हैं। इस पुस्तिका में सबको एकत्र करके पेश करने का प्रयास किया गया है। इस पुस्तक से एक भाग हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं आशा है कि इस से लाभांवित होंगे।

अंतिम बुद्ध-मैत्रेय और मुहम्मद (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) बौद्ध ग्रन्थों में जिस अंतिम बुद्धि मैत्रेय के आने की भविष्यवाणी की गई है, वे हज़रत मुहम्मद (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) ही सिद्ध होते हैं। ‘बुद्ध’ बौद्ध धर्म की भाषा में ऋषि होते हैं।

गौतम बुद्ध ने अपने मृत्यु के समय अपने प्रिय शिष्य आनन्दा से कहा था कि –
“नन्दा! इस संसार में मैं न तो प्रथम बुद्ध हूं और न तो अंतिम बुद्ध हूं। इस जगत् में सत्य और परोपकार की शिक्षा देने के लिए अपने समय पर एक और ‘बुद्ध’ आएगा। यह पवित्र अन्तःकरणवाला होगा। उसका हृदय शुद्ध होगा। ज्ञान और बुद्धि से सम्पन्न तथा समस्त लोगों का नायक होगा। जिस प्रकार मैंने संसार को अनश्वर सत्य की शिक्षा प्रदान की, उसी प्रकार वह भी विश्व को सत्य की शिक्षा देगा। विश्व को वह ऐसा जीवन-मार्ग दिखाएगा जो शुद्ध तथा पूर्ण भी होगा। नन्दा! उसका नाम मैत्रेय होगा। – (Gospel of Buddha, by Carus, P-217)

बुद्ध का अर्थ ‘बुद्धि से युक्त’ होता है। बुद्ध मनुष्य ही होते हैं, देवता आदि नहीं। (It is only a Human Being that can be a Buddha, a deity can not. ‘Mohammad in the Buddist Scriputures P.1’)मैत्रेय का अर्थ ‘दया से युक्‍त’ होता है।
मैत्रेय की मुहम्मद (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) से समानताअंतिम बुद्ध मैत्रेय में बुद्ध की सभी विशेषताओं का पाया जाना स्वाभाविक है। – @[156344474474186:]

♥ बुद्ध की प्रमुख विशेषताएँ इस प्रकार हैं।

1. वह ऐश्वर्यवान् एवं धनवान होता है।
2. वह सन्तान से युक्त होता है।
3. वह स्त्री और शासन से युक्त रहता है।
4. वह अपनी पूर्ण आयु तक जीता है। – (Warren,P. 79)
5. वह अपना काम खुद करता है। – (The Dhammapada, S.B.E Vol. X.P.P. 67)
6. बुद्ध केवल धर्म प्रचारक होते हैं। – (The Tathgatas are only preaches, ‘The Dhammapada S.B.E. Vol X. P.67)
7. जिस समय बुद्ध एकान्त में रहता है, उस समय ईश्वर उसके साथियों के रूप में देवताओं और राक्षसों को भेजता है। – (Saddharma-Pundrika, S.B.E. Vol XXI., P. 225)
8. संसार में एक समय में केवल एक ही बुद्ध रहता है। – (The life and teachings of Buddha, Anagarika Dhammapada P. 84)
9. बुद्ध के अनुयायी पक्के अनुयायी होते हैं, जिन्हें कोई भी उनके मार्ग से विचलित नहीं कर सकता। – (Dhammapada, S.B.E. Vol. X. P. 67)
10. उसका कोई व्यक्ति गुरु न होगा। – (History of Buddha, by Beal, P.241)
11. प्रत्येक बुद्ध अपने पूर्णवर्ती बुद्ध का स्मरण कराता है और अपने अनुयायियों को ‘मार’ से बचने की चेतावनी देता है। – (Dhammapada, S.B.E. Vol. X1, P. 64) मार का अर्थ बुराई और विनाश को फैलनेवाला होता है। इसे शैतान कहते हैं।
12. सामान्य पुरुषों की अपेक्षा बुद्धों की गर्दन की हड्डी अत्यधिक दृढ़ होती थी, जिससे वे गर्दन मोड़ते समय अपने पूरे शरीर को हाथी की तरह घुमा लेते थे।

अंतिम बुद्ध मैत्रेय की इनके अलावा अन्य विशेषताएं भी हैं। मैत्रेय के दयावान होने और बोधि वृक्ष के नीचे सभा का आयोजन करनेवाला भी बताया गया है। इस वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान प्राप्ति होती है। डा. वेद प्रकाश उपाध्याय ने यह सिद्ध किया है ये सभी विशेषताएँ मुहम्मद (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) के जीवन में मिलती है। तथा अंतिम बुद्ध मैत्रेय हज़रत मुहम्मद (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) ही हैं।

Buddhism

You might also like

Leave a Reply

avatar