हज़रत जैनब बिन्ते रसूलुल्लाह (ﷺ)

 हज़रत जैनब हुजूर (ﷺ) की सब से बड़ी साहबजादी (बेटी) थीं, नुबुव्वत मिलने से तकरीबन दस साल पहले हजरत खदीजा (र.अ) से पैदा हुई, रसूलुल्लाह (ﷺ) की दावत के शुरु जमाने में ही मुसलमान हो गई।

.     उन का निकाह अबुल आस बिन रबीअ से हुआ था, वह उस वक्त तक मुसलमान नही हुए थे; इसलिए हिजरत न कर सकी, गजवा-ए-बद्र में कुफ्फ़ारे मक्का के साथ अबुल आस भी कैद हुए, सब ने अपने कैदी को छुड़ाने के लिए फ़िदया भेजा, जैनब ने भी वह हार जो हजरत ख़दीजा (र.अ) का दिया हुआ था फ़िदये में भेजा, जब हुजूर (ﷺ) की नजर उस हार पर पड़ी, तो आप (ﷺ) को हजरत ख़दीजा (र.अ) की याद आ गई और आँखों से आँसू जारी हो गए, सहाबा से मशवराह किया, यह बात तय हुई के अबुल आस को बगैर फ़िदया के रिहा किया जाए, इस शर्त पर के वह मक्का पहुँचने के बाद ज़ैनब (र.अ) को मदीना भेज दें। चुनांचे वह गए और अपने छोटे भाई के साथ मदीना रवाना किया मगर कुफ्फ़ारे मक्का ने उनको रोका उस वक्त उन को ज़ख्म भी आया, आखिर कार अबुलआस ने कुफ़्फ़ार से छुपा कर उन्हें मदीना भेज दिया।

.     छ: साल बाद सन ८ हिजरी में ज़ैनब (र.अ) का हिजरत वाला ज़ख्म हरा हुआ और उसी ज़ख्म की वजह से उन की शहादत हो गई।

📕 इस्लामी तारीख

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *