Browsing Category

Aurto Ke Sabab

क्या इस्लाम औरतों को पर्दे में रखकर उनका अपमान करता है और क्या बुरखा औरतो की आज़ादी के खिलाफ है ?

» उत्तर: इस्लाम में औरतों की जो स्थिति है, उसपर सेक्यूलर मीडिया का ज़बरदस्त हमला होता है। वे पर्दे और इस्लामी लिबास को इस्लामी क़ानून में स्त्रियों की दासता के तर्क के रूप में पेश करते हैं। इससे पहले कि हम पर्दे के धार्मिक निर्देश के पीछे…
Read More...

Behtareen Biwi aur Behtareen Shohar ki Pehchan

✦ Behtareen Biwi Ki Pehchan • Jo Apne Shohar ki farmabardari aur khidmat guzari ko apna farz-e-azeem samjhe. • Jo Apne Shohar ke tamam huqooq ada karne me kotahi na karen. • Jo Apne Shohar ki khubiyon per Nazar rakhe aur uske Aib aur…
Read More...

Wo Tumhari Libaas Hai Aur Tum Unkey Libaas ,…

*Allah Rabbul Izzat Quraan Me Shohar Aur Biwi Ke Rishtey Ki Misaal Bayan Karte Hue Farmata Hai - ♥ Al-Quraan: “Wo Tumhari Libaas Hai Aur Tum Unkey Libaas”. –# Hiqmat: - Libaas Insan Ki Zeenat Badhata Hai Aur Uske Aib Chupata Hai. - Isi…
Read More...

Kamiyab Nikah Deendari ki Buniyad Par

*Aaj Aksar humare Muashre me dekha jata hai ke Nikah ke liye Gori aur Khubsurat Ladki ka Intekhab karna kuch Jyada hi Aham samjha jata hai, tou kya wakay me Shariyate Islamiya Rangat ka Tassuf pasand karta hai ?.. Aayiye Iski Hakikat Dekhte…
Read More...

औरत की आबरू का आदर

*इस्लाम के दिए हुए मानव-अधिकारों में अहम चीज़ यह है कि औरत के शील और उसकी इज़्ज़त हर हाल में आदर के योग्य है, चाहे औरत अपनी क़ौम की हो, या दुमन क़ौम की, जंगल बियाबान में मिले या फ़तह किए हुए शहर में, हमारी अपने मज़हब की हो या दूसरे मज़हब की, या…
Read More...

♫ Kya Tamaam Auratey Jahannum Me Jayengi ?

Baaz Aurate Aisa Sochti hai ke wo Kitne bhi Acche amal kar le fir bhi wo jahannum me hi jayegi? kya ye akida durust hai? tafseeli jankari ke liye is audio ko jarur sune aur jyada se jyada share karne me humara tawoon kare,. jazakAllahu…
Read More...

नज़र का फ़ित्ना ….

नज़र एक ऐसा फ़ित्ना हैं जिस पर कोई रोक नही जब तक कोई इन्सान खुद अपनी नज़र को बुराई से न फ़ेर ले| अमूमन नज़र के फ़ित्ने से आज का इन्सान महफ़ूज़ नही क्योकि टीवी, अखबार, मिडिया के ज़रीये जिस तरह इन्सान के जज़्बात को जिस तरह भड़काने का मौका दिया जा रहा…
Read More...