Browsing Category

Islamic Golden Age

रसायनशास्त्र के सबसे पहले जनक थे जाबिर बिन हियान

Jabir Ibn Hayyan: father of chemistry

जाबिर बिन हियान जिन्हें इतिहास का पहला रसायनशास्त्री कहा जाता है उसे पश्चिमी देश में गेबर (geber) के नाम से जाना जाता है।इन्हें रसायन विज्ञान का संस्थापक माना जाता है , इनका जन्म 733 ईस्वी में तूस में हुई थी , जाबिर बिन हियान ने ही एसिड…
Read More...

Science and Technology hai Islam ki Daiyn ! Afsos khud Musalman hai is se Gafil

साइंस और टेक्नोलॉजी है इस्लाम की देन | अफ़सोस ! खुद मुसलमान है इस से गाफिल

मोजुदा दौर में मुसलमानों के इल्म से दुरी ने उन्हें अपने आबा-ओ-अजदाद के कारनामो से महरूम कर दिया. जबकी इस्लाम ही ने दुनिया को मशाले राह दिखाई , साइंस और टेक्नोलॉजी भी मुसलमानो ने वजदू में लायी. तफ्सीली जानकारी के लिए इस स्पीच का मुताला करे…
Read More...

Technology Industries aaj wajud me nahi hoti ! agar Musalman Scientist Na Hotey – Mrs Carlton…

टेक्नोलॉजी इंडस्ट्रीज आज वजूद में नहीं होती! अगर मुसलमान साइंटिस्ट न होते: मिस कार्लटन फिओरिना

"ट्विन टावर के हादसे के २ हफ्ते बाद ही जब इस्लाम पर सारी दुनिया दहशतगर्दी के इलज़ामात लगा रही थी तब एक ईसाई खातून जो की HP की CEO थी वो अपने स्पीच में "इस्लामी सिविलाइज़ेशन" के जो एहसानात है इंसानियत के लिए वो याद दिलाते हुए सबको हैरान कर…
Read More...

मुसलमानों के साइंसी कारनामे

Muslim Scientist ke Inventions aur Karname

मुसलमानों के लिए ज्ञान के क्या मायने हैं उसे कुरआन ने अपनी पहली ही आयत में स्पष्ट कर दिया था अतीत में मुसलमानों ने इसी आयत करीमा का पालन करते हुए वह स्थान प्राप्त कर लिया था जिस के बारे में आज कोई विचार नही कर सकता।मुसलमान ज्ञान के हर…
Read More...

मॉडर्न सर्जरी है “इब्न ज़ुहर” की देन

Ibn Zuhr: Father of Modern Surgery

अवेन्ज़ोअर (Avenzoar) (1094–1162): जो लोग मेडिसिन से ताल्लुक रखते है वो ज़रूर इस नाम को जानते होंगे। इनका असल नाम “इब्न ज़ुहर” था। यह वो थे जिन्होंने बहुत सारे ऐसे आलात(इक्यूपमेंट) ईजाद किये जिसके ज़रिये सर्जरी की जाती है,.. मॉडर्न सर्जरी !!!…
Read More...

औद्योगिककरन के बानी कहलाते है – अल-जज़री

Al jazari : The Father of robotics & Industrialization

दुनिया में इंडस्ट्रियल ऐज जो आया उसके लिए सबसे पहले बुनियादी चीज़ थी वो मशीनरी, और मशीनरी के लिए सबसे अहम् चीज़ थी वो था “क्रैनशाफ़्ट”।क्रैनशाफ़्ट के बगैर मशीनरी का कोई तसव्वुर नहीं, क्यूकी क्रैनशाफ़्ट के जरये गोल घुमने वाली चीजों से सीधी ताकत…
Read More...