Browsing Category

इस्लाम

इंशाअल्लाह का मतलब हिंदी में

इन्शा'अल्लाह (InshaAllah)  जब कोई शख्स भविष्य में कोई कार्य करना चाहता है, या उसका इरादा करता है या भविष्य में कुछ होने की आशंका व्यक्त करता है या कोई वादा करता है या कोई शपथ लेता है तो इस शब्द का उपयोग करता है. ऐसा करने का हुक्म कुरान में…
Read More...

अल्लाह की रहमत का एक खुबसूरत वाकिया

Islamic Waqiat In Hindi अल्लाह की रहमत का एक खुबसूरत वाकिया इब्न खुदामा अपनी किताब अत-तवाबिंन में बनी इस्राईल का वाकिया पेश करते हुए कहते है के, मूसा (अलैहि सलाम) के ज़माने में  एक बार केहत आया (सुखा पड़ा), आप अपने तमाम सहाबा के साथ अल्लाह…
Read More...

जानिए- क्यों मनाई जाती ही क़ुरबानी ईद ? (क़ुरबानी की हिक़मत)

" कह दो कि मेरी नमाज़ मेरी क़ुरबानी 'यानि' मेरा जीना मेरा मरना अल्लाह के लिए है जो सब आलमों का रब है ।"- बकरा ईद का असल नाम "ईदुल-अज़हा" है, मुसलमानों में साल में दो ही त्यौहार मजहबी तौर पर मनाए जाते हैं एक "ईदुल फ़ित्र" और दूसरा "ईदुल…
Read More...

ईद उल अजहा / क़ुरबानी ईद मुबारक। Eid ul Adha Mubarak 2020

ईद उल अजहा (क़ुरबानी ईद) हर मुसलमान के लिए एक अहम मौका होता है।कुछ लोगो की गलतफहमी है कि इस्लाम की स्थापना मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने की, ये बात वो बिना लेखक की फालतु किताब वाले बोलेंगे जिन्हे इस्लाम के नाम से हमेशा डराया जाता…
Read More...

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.7

बनी इसराईल की गौशालापरस्ती .     इसी बीच एक और अजीब व ग़रीब वाकिया पेश आया, वह यह कि कोहे तूर पर एतिकाफ़ में फैलाव से फायदा उठाकर एक आदमी सामरी ने जो जाहिर में मुसलमान था, बनी इसराईल से कहा कि अगर तुम वह तमाम जेवर मेरे पास ले आओ जो तुमने…
Read More...

कुरआन और तिब्बे नबवी से इलाज | Quraan aur Tib e Nabvi se ilaj

1. मुहर्रमुल हराम इलाज तकदीर के खिलाफ़ नहीं हर मर्ज का इलाज तीन चीजों में शिफा है खजूर से इलाज बीमारी से बचने की तदबीर नज़रे बद का इलाज दुबले पन का इलाज बड़ी बीमारियों से हिफाज़त नमाज़ में शिफा इरकुन्नसा…
Read More...

आखिरत के बारे में | Aakhirat ke baare mein

1. मुहर्रमुल हराम कयामत में मुजरिमों की हालत मुर्दे की हालत मुसलमानों से जन्नत का वादा कब्र के तीन सवाल जहन्नम में हमेशा का अजाब मोमिन के लिये क़यामत के दिन की मिक़दार परहेज़गार लोगों के लिये खुशखबरी सब से पहला सवाल जन्नत…
Read More...

दुनिया के बारे में | Dunia ke baare mein

1. मुहर्रमुल हराम हलाल और हराम को समझो दुनिया पर राजी होना आखिरत के अमल से दुनिया हासिल करना काफिरों के माल से तअज्जुब न करना हलाल रोज़ी कमाओ दुनिया का फायदा वक़्ती है हूजूर के घर वालों का सब्र दुनियावी जिन्दगी पर…
Read More...

एक गुनाह के बारे में | Ek Gunaah ke baare mein

1. मुहर्रमुल हराम पड़ोसी को सताना सूद खाना टख्ने से नीचे कपड़ा पहनना इस्लाम के अलावा कोई दीन मक्बूल नहीं गुनाह की वजह से रिज्क से महरूमी यतीमों का माल खाना बिला जरूरत मांगने का वबाल जान बूझ कर कत्ल करना शराब पीना…
Read More...

एक अहेम अमल की फजीलत | Ek Aham amal ki Fazilat

1. मुहर्रमुल हराम सुबह के वक़्त दुआ पढ़ना नुकसान से बचने की दुआ दो महबूब कलिमे नमाज़ के बाद की तस्बीहात इस्लाम में बेहतर आमाल माहे मुहर्रम में रोज़ा रखना आशूरा के रोजे का सवाब दस्वीं मुहर्रम का रोज़ा माहे मुहर्रम…
Read More...

एक सुन्नत के बारे में | Ek Sunnat ke Baare mein

1. मुहर्रमुल हराम सुन्नत पर अमल करना दुआ करना एक इबादत है वुजू में दाढ़ी का खिलाल करना हिदायत के लिये दुआ पूरे सर का मसह करना मेजबान को दुआ देना वुजू में कानों का मसह करना तक्बीरे तहरीमा के बाद की दुआ गर्दन का मसह करना…
Read More...

फर्ज अमल के बारे में | Ek Farz ke Baare mein

1. मुहर्रमुल हराम चंद बातों पर ईमान लाना नमाज़ के लिये पाकी हासिल करना गुस्ल में पूरे बदन पर पानी बहाना नमाज़ छोड़ने पर वईद सुबह की नमाज़ अदा करने पर हिफाज़त का ज़िम्मा हज की फ़र्जियत दीन में नमाज़ की अहमियत गिरवी…
Read More...

अल्लाह की कुदरत | Allah ki Qudrat | Miracles of Allah

1. मुहर्रमुल हराम आस्मान दूध जमीन और उस की पैदावार सूरज चाँद के फायदे बादल जम ज़म का पानी जमीन व आस्मान का छ:दिन में पैदा करना दीमक जुबानों का मुख्तलिफ होना मोती की पैदाइश हवा शक्ल व सूरत का मुख्तलिफ होना…
Read More...

हुजूर (स०) का मुअजिज़ा | Huzoor ﷺ ka Mojza | Miracles of Prophet Muhammad (PBUH)

1. मुहर्रमुल हराम सितारों का झुक जाना आप का सीना चाक किया जाना चाँद के दो टुकड़े होना बैतुलमकदिस के बारे में खबर देना अबूजहल पर ख़ौफ़ दरख्त का हुजूर को इत्तला देना हुजूर के पसीने की खुशबू सब से बड़ा मुजिजा कुरआन है…
Read More...

इस्लामी तारीख | Islamic history in Hindi

1. मुहर्रमुल हराम अल्लाह तआला ने कलम को पैदा किया जमीन व आसमान की पैदाइश फरिश्ते अल्लाह की मख्लूक हैं जिन्नात की पैदाइश हज़रत आदम (अ.स) हज़रत आदम का दुनिया में आना काबील और हाबील हज़रत शीस (अ.स) हजरत इदरीस (अ.स)…
Read More...

6. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हजरत जमीला बिन्ते सअद बिन रबी (र.अ.) हुजूर का मुअजिजा: हुजूर (ﷺ) की दुआ का असर एक फर्ज के बारे में: इल्म हासिल करना जरूरी है एक सुन्नत के बारे में: हर तरह की परेशानी से छुटकारा एक अहेम अमल की फजीलत: शहादत की…
Read More...

4. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हज़रत आयशा (र.अ) का इल्मी मर्तबा हुजूर का मुअजिजा: आंधी आने की खबर देना एक फर्ज के बारे में: हज किन लोगों पर फ़र्ज़ है एक सुन्नत के बारे में: मुशकिल कामों की आसानी की दुआ एक अहेम अमल की फजीलत: सूर-ए-इख्लास…
Read More...

2. शव्वाल | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

(1). हज़रत खदीजा (र.अ) की फजीलत व खिदमात, (2). नमाज़ों का सही होना जरूरी है, (3). मुसीबत के वक्त की दुआ, (4). इल्म हासिल करने के लिये सफर करना, (5). अहेद और कस्मों को तोड़ने का गुनाह, (6). दुनिया पर मुतमइन नहीं होना चाहिए, (7). कयामत का…
Read More...

ईद की नमाज का तरीका: Eid ki Namaz ka tarika | How to Pray Eid Prayer in Hindi

दो रकात ईद की नमाज का तरीका तकबीरे ऊला से सलाम तक तफसील के साथ👇नोट- नमाज का ये तरीका मर्द और औरत दोनों के लिए है क्योंकि एक भी सहीह हदीस से औरतों का तरीका अलग साबित नहीं है बल्कि नबी (ﷺ) का वाजेह हुक्म है- "नमाज़ उस तरह पढ़ो जिस तरह मुझे…
Read More...

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.6

फ़िरऔन, फ़िरऔन की क़ौम और कयामत का अजाब .......... फ़िरऔन और हजरत मूसा अलैहि सलाम का यह वाक्रिया हक व बातिल के मारके में एक शानदार मारका है- एक ओर गुरूर व घमंड, जब व जुल्म, तो दूसरी ओर मज्लुमियत, ख़ुदापरस्ती और सब्र व इस्तिकामत की फ़तह व…
Read More...

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.5

फ़िरऔन का एलान .......... ग़रज जब फ़िरऔन और उसके सरदारों को मूसा अलैहि सलाम को हराने में नाकामी हुई तो फ़िरऔन ने अपनी कौम में एलान किया-.......... तर्जुमा- ‘ऐ कौम! क्या मैं मिस्र के ताज व तख़्त का मालिक नहीं हूँ। मेरी हुक़ूमत के क़दमों…
Read More...

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.4

जादूगरों की हार और फ़िरऔन का रद्देअमल (प्रतिक्रिया) .......... बहरहाल जश्न का दिन आ पहुंचा, जश्न के मैदान में तमाम शाहाना कर व फ़र के साथ फ़िरऔन तख्तनशी है और दरबारी भी दर्जे के एतबार से क़रीने से बैठे हैं और लाखों इंसान हक व बातिल के…
Read More...

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.3

हज़रत मूसा अलैहि सलाम की एक नबी की हैसियत से मिस्र को वापसी और हज़रत हारून अलैहि सलाम को रिसालत का मंसब अता किया जाना। मिस्र में दाखिला .......... जब हज़रत मूसा अलैहि सलाम नुबूवत के मंसब से सरफ़राज़ होकर कलामे रब्बानी से फैजयाब बनकर और…
Read More...

शबे क़द्र और इस की रात का महत्वः (शबे क़द्र की फ़ज़ीलत हिंदी में)

शबे क़द्र का अर्थ: रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है, जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है। जिसे शबे क़द्र कहा जाता है। शबे क़द्र का अर्थ होता हैः "सर्वश्रेष्ट रात", ऊंचे स्थान वाली रात”, लोगों के नसीब लिखी जानी वाली रात।शबे क़द्र बहुत…
Read More...

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.2

हज़रत मूसा अलैहि सलाम की मिस्र से मदयन के लिए हिजरत मूसा अलैहि सलाम और मदयन का इलाका .......... हजरत शुऐब अलैहि सलाम के वाक़ियों में मदयन का जिक्र आ चुका है। मदयन की आबादी मिस्र से आठ मंजिल पर वाकए थी। हजरत मूसा अलैहि सलाम सलाम चूंकि…
Read More...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More