Browsing Category

उम्मत की इस्लाह

कजाए उमरी नमाज़ की हकीकत: हिंदी में

अक्सर रमजान का आखरी जुमा आने तक कजा नमाज वाली पोस्ट शोशल मिडीया पर वायरल होती रहती है, यह मैसेज किसने अपलोड किया, कोई नहीं जानता! लेकिन ताज्जुब इस बात का है के, यह कुछ मुसलमान भाई बिना सोचे समझे ऐसे मैसेज खूब फोर्वड कर रहे है , अल्लाह रेहम करे नतीजतन लोगों में बेशुमार गलतफहमिया आम हो रही है।वो मैसेज…

रमज़ान का महिना … जानिए: इसमें क्या है हासिल करना ?

हम मुसलमानों ने कुरआन की तरह रमज़ान को भी सिर्फ सवाब की चीज़ बना कर रख छोड़ा है, हम रमज़ान के महीने से सवाब के अलावा कुछ हासिल नहीं करना चाहते इसी लिए हमारी ज़िन्दगी हर रमज़ान के बाद फ़ौरन फिर उसी पटरी पर आ जाती है जिस पर वो रमज़ान से पहले चल रही थी,कुरआने हकीम रमज़ान के बारे में कुछ यूं फरमाता है - "ऐ ईमान…

शोहर के ख़राब रवैये से हर बीवी के सामने तीन रास्ते होते है

शोहर का ख़राब रवैया देखकर हर बीवी के सामने तीन रास्ते होते है, और हर बीवी इन तीन रास्तों मे से एक रास्ता ज़रूर चुनती है, अगर शोहर बीवी के साथ अच्छा सुलूक नही करता, उसे वक़्त नही देता, मोबाइल टीवी और दोस्तों मे मसरूफ़ रहता है, उसे इज़्ज़त व प्यार नही देता, हर वक़्त झगड़ा करता है, गालिया देता है, मां बहन…

Hisnul Muslim – Quran wa Hadees ki Duain in hindi Pdf

Download PdfAlso Search as: Hisnul muslim pdf in Hindi, All Dua in Hindi pdf free download, All Islamic Dua in hindi pdf, Islamic Dua books in hindi pdf, Islamic Hadees Books in Hindi pdf, Sunni Islamic books in hindi pdf free download, Islamic Dua Hindi me, Masnoon Dua in Hindi Pdf

बनी इस्राईल पर अल्लाह का अज़ाब और उम्मते मुस्लिमा के लिए इबरत

आज हम जिस हालात से गुजर रहे है आखिर क्या वजह है के हमारा रब हमसे नाराज़ है और ज़ालिम हुकुमराह हमपर मुसल्लत, आईये इसके ताल्लुक से हमसे पिछली उम्मत यानी बनी इस्राईल की हलाकत की मिसाल पर गौर करते है. बनी इस्राईल पर अल्लाह के अज़ाब का पहला वादा: बनी इस्राईल हमसे पहले अल्लाह की चुनिंदा कौम थी, अल्लाह ने इनमे…

इस्लाम सुलह और शांति सिखाता है

♥ मफहूम-ऐ-हदीस ﷺ अल्लाह के नबी (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) ने एक रोज़ सहाबा से फ़रमाया - "क्या मै तुम्हे उस चीज़ के बारे में न बता दू जिसका दर्जा रोज़े , नमाज़ , सदके से भी ज्यादा ?" लोगो ने जवाब दिया: ए अल्लाह के रसूल! हमे जरुर बताये !आप (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया: "उन लोगों में सुलह और शांति करा…

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 6

दज्जाल के मुतालिक जो तीन कौल मशहूर है के ये दज्जाल है उनमे पहला सामरी जादूगर, दुसरा हैरम आबीफ तीसरा है अमेरिका। आईये इस पार्ट में अमेरिका पर एक नजर  डालते है। ३. अमेरिका" बाज हजरात का कहना है कि अमेरिका दज्जाल है, क्योंकि दज्जाल की भी एक आंख होगी और अमेरिका की भी एक आंख है, इसकी मादियत की आंख…

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 5

दज्जाल कौन है? कहा है? और कब निकलेगा? दज्जाल कौन है इस हवाले से बाज़ हज़रात का दुसरा कौल है के वो "हैरम आबीफ" है। २.हैरम आबीफ : बाज अहले इल्म की राय है कि इससे हैरम आबीफ (या सखरा आसफ) मुराद है, ये हजरत सुलेमान (अलैहि सलाम) के दौर मे हैकल सुलेमानी के नो बडे मास्टर मेसेंज का सरबराह ग्रेंड मास्टर था और…

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 4

दज्जाल कौन है? कहा है? और कब निकलेगा? ✦ दज्जाल कौन है? दज्जाल कौन है इस हवाले से मुख्तलिफ बाते की जाती रही है, बाज तो इतनी मजाहका खेज है कि बे अख्तियार हंसी आती है, हम इनसे सिर्फ नजर करते हुए यहा तीन मशहूर कौल जिक्र करके इन पर तबसीरा करते हुए चलेगे। १. सामरी जादूगर : बाज हजरात का कहना है कि हजरत मुसा…

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 3

✦ दज्जाल का इरान से ताल्लुक: ❝ दज्जाल के साथ अश्फहान के सत्तर हजार यहुदी होगे जो इरानी चादरे ओढे हुए होगे। (सही मुस्लिम किताब अल फितन हदीस न. 2944) ❝ दज्जाल कौम यहुद से होगा। (सही मुस्लिम किताब अल फितन हदीस न. 2937) अश्फहान इरान आबाद का तीसरा बडा शहर है और शोबा अश्फहान का दारूल हुकूमत है, 2006 के…

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 2

✦ दज्जाल का नाम और इसका मतलब: यहुदी अपने इस नजात दहिन्दा का आखिरी नाम यबुल, युबील, या हुबल बताते है, जो हमारी इस्लामी इस्तलाह मे तागुत और बुतो का नाम है और इसका लकब इनके यहा مسیحا या مسیا है।दज्जाल का असल नाम मालूम नही, क्योंकि हदीस मे नही आया, ये अपने लकब से मशहूर है, इस्लामी इस्तलाह मे इसका लकब…

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 1

दज्जाल कौन है? दज्जाल कहा है? दज्जाल कब निकलेगा? दज्जाल की दावत, दज्जाली फितने की नौईयत व हकीकत, दज्जाल के पैरोकार, दज्जाली ताकतो का तारूफ, दज्जाल से बचने के लिए रूहानी व तजविराती तदबीर (मुफ्ती अबु लुबाबा शाह मंसूर © www.Ummat-e-Nabi.com) ✦ झूठे दावेदार की तीन निशानीया: अल्लाह के नबी ﷺ फ़रमाते है: ❝ जब…

मस्जिदुल हरम में कीड़ो के तूफ़ान की हकीकत (Reality of Locusts Swarm in Mecca-Saudi…

मुसलमानो के सबसे मुक़द्दस मक़ाम मस्जिदुल हराम में कीड़ो का तूफ़ान, जो मरकज़ी दरवाज़ों और दीवारों समेत साथ माले की बिल्डिंग्स और स्कूल तक बिखर गए। आईये देखते है इसकी हकीकत के यह सब हिक्मते अमली या फिर अल्लाह तआला का अज़ाब।मस्जिदुल हराम में 7 जनवरी को होने वाले इस वाकिये की वीडियोस और तस्वीरें मुसलसल इंटरनेट…

Shaykh Abdul Qadir Jilani (R.A) ki imandari ka wakiya by Dr.Zakir Naik

शैख़ अब्दुल क़ादिर जिलानी (र.अ.) की ईमानदारी और आपकी वालिदा की तरबियत का इबरतनाक वाकिया ।  डॉ.ज़ाकिर नाइक | बराए मेहरबानी इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करने में हमारी मदद करे. – जज़कल्लाहू खैरण कसीरा. |  Shaykh Abdul Qadir Jilani (R.A) ki imandari aur aapki walida ki tarbiyat ka ibratnak ka wakiya by Dr.Zakir…

पैगंबर मुहम्मद साहब ﷺ कि भविष्यवाणी वैद और पुराणो मे – Prophet Muhammad…

✦ Last Messenger of God in “Bhawishya Puran” इस पोस्ट में हम आपकी सेवा में कुछ ऐसे प्रमाण पेश कर रहे हैं जिन से सिद्ध होता है कि “कल्कि अवतार” अथवा “नराशंस” जिनके सम्बन्ध में वैदिक धार्मिक ग्रन्थों ने भविष्यवाणी की है वह मुहम्मद (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) ही हैं। क्योंकि कुछ स्थानों पर स्पष्ट रूप में…

Eid Milad Un Nabi 2018 : जश्ने मिलाद उन नबी (ﷺ) के नाम पर केक, DJ और तवायफों का…

जो पूरा साल अपनी माँ की खिदमत नहीं करते वो एक दिन चुनकर "मदर डे" मनाते है, इसी तरह फादर्स डे, टीचर्स डे और न जाने कौन कौनसा डे मनाकर एक रस्म पुरी कर लेते!मिलाद का मनमानी जश्न भी इसी तरह के नफ्सपरस्तो की ईजाद करदा रस्म है जिसका जिक्र कही भी कुरानो सुन्नत में नहीं मिलता, और इनका हाल भी यही है के साल भर…

जिसकी बुनियाद शरीयत मे नही ऐसा काम दीन मे ईजाद करना मरदूद है

Roman Urduहिंदीहजरते आयेशा (रज़ीअल्लाहु अन्हा) से रिवायत है की, रसूलअल्लाह (ﷺ) ने फरमाया: “जिसने दीन मे कोई ऐसा काम किया जिसकी बुनियाद शरीअत में नहीं वो काम मरदूद है।” - (सुनन इब्न माजाह, हदीस 14) ✦ वजाहत: मसलन वो तमाम आमाल जिन्हे हम नेकी और सवाब की उम्मीद से करते है लेकिन जो सुन्नत से साबित न हो…

हिकायत – पार्ट 2: आदम (अलैहि सलाम) और बीबी हव्वा (अलैहि सलाम)

हज़रत आदम (अलैहि सलाम) और बीबी हव्वा (अलैहि सलाम) को ज़मीन पर उतारा गया. अज़ीज़ दोस्तों! जब शैतान मरदूद और लानती हो गया तो उसके जन्नत मे दाखीले पर पाबन्दी लग गई। अब वो जन्नत मे दाखील नहीं हो सकता था। ✦ आदम अलैहि सलाम की तखलीख: हज़रत आदम (अलैहि सलाम) जब उठ कर बैठ गए तो उन्हे छींक आ गई और तब आदम (अलैहि सलाम)…

हिकायत – पार्ट 1 : रू –ए–ज़मीन की इब्तेदा (खिल्क़त का आगाज)

۞ बिस्मिल्लाह –हिर्रहमान –निर्रहीम ۞ “अल्लाह के नाम से शुरू जो तमाम जहानों को बनाने वाला और उसे पालने वाला है और दूरूदो सलाम हो उसके आखरी नबि रसूल ‘अल्लाह (सलल्लाहू अलैहि वसल्लम) पर।” ✦ फरीश्ते, जिन्न और इन्सान आदम (अलैहि सलाम) की तख्लीख: अल्लाह ता’आला ने फरीश्तों को नूर से पैदा किया, जिन्नों को आग से…

ईद मिलाद-उन-नबी – 12 रब्बी-उल-अव्वल की हक़ीक़त

Roman Urduहिंदी!!! अस्सलामु अलैकुम व रहमतुल्लाही व बरकतुहु !!! 12 रब्बी-उल-अव्वल को बर्रे सगीर मे की जाने वाला दिन भी हम मुसलमानो मे बड़े इख्तेलाफ़ का मौजू है, आइए हम इस्स दिन के पसेमंजर पर गौर करते है, सहाबा-ए-कीराम के हालत-ए-ज़िंदगी के असर देखते है के उनपर ये दिन कैसे गुजरा ।✦ रसूल-ए-करीम (ﷺ)…

भारत का मुसलमान इतना पिछड़ा हुआ क्यों है ?

भारत मे यह पूरी तरह मान लिया गया है कि मुसलमान एक जाहिल ,गंवार, फूहड़ ,गंदी और बुध्दू क़ौम है, जबकि मेरा मानना है कि क़ुदरती सलाहियत यानि नैचुरल टैलेंट जितना मुसलमान मे है उतना दुनिया की किसी दूसरी क़ौम मे नही,हम सिर्फ़ आज के पसमंज़र मे बात करते हैं , किसी भी ख़राब गाड़ी की सिर्फ़ आवाज़ सुनकर उसके…

नमाज का आसान तरीका हिंदी में

✦ नमाज़ की शर्ते नमाज़ की कुछ शर्ते हैं. जिनका पूरा किये बिना नमाज़ नहीं हो सकती या सही नहीं मानी जा सकती. कुछ शर्तो का नमाज़ के लिए होना ज़रूरी है, तो कुछ शर्तो का नमाज़ के लिए पूरा किया जाना ज़रूरी है. तो कुछ शर्तो का नमाज़ पढ़ते वक्त होना ज़रूरी है, नमाज़ की कुल शर्ते कुछ इस तरह से है.बदन का पाक होना…

हदीस का परिचय – हदीस पर अमल की जरुरत

पवित्र क़ुरआन के बाद मुसलमानों के पास इस्लाम का दूसरा शास्त्र अल्लाह के रसूल मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) की कथनी और करनी है जिसे हम हदीस और सीरत के नाम से जानते हैं। हदीस की परिभाषाः हदीस का शाब्दिक अर्थ है: बात, वाणी और ख़बर। इस्लामी परिभाषा में ‘हदीस’ मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) की…

तलाक, हलाला और खुला की हकीकत (Talaq, Halala aur Khula Ki Hakikat)

• तलाक की हकीकत: यूं तो तलाक़ कोई अच्छी चीज़ नहीं है और सभी लोग इसको ना पसंद करते हैं इस्लाम में भी यह एक बुरी बात समझी जाती है लेकिन इसका मतलब यह हरगिज़ नहीं कि तलाक़ का हक ही इंसानों से छीन लिया जाए,पति पत्नी में अगर किसी तरह भी निबाह नहीं हो पा रहा है तो अपनी ज़िदगी जहन्नम बनाने से बहतर है कि वो अलग…

पांच कलीमे और उनका हिंदी अनुवाद

१. पहला कलमा तय्यब:"ला इलाहा इलल्लाहु मुहम्मदुर्रसूलुल्लाहि" » तर्जुमा: अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं और हज़रत मुहम्मद सलल्लाहो अलैहि वसल्लम अल्लाह के नेक बन्दे और आखिरी रसूल है. २. दूसरा कलमा शहादत:"अश-हदु अल्लाह इल्लाह इल्लल्लाहु वह दहु ला शरी-क लहू व अशदुहु अन्न मुहम्मदन अब्दुहु व रसूलुहु" »…

पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) का विदायी अभिभाषण (इस्लाम में मानवाधिकार)

पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) ईश्वर की ओर से, सत्यधर्म को उसके पूर्ण और अन्तिम रूप में स्थापित करने के जिस मिशन पर नियुक्त किए गए थे वह 21 वर्ष (23 चांद्र वर्ष) में पूरा हो गया और ईशवाणी अवतरित हुई : ‘‘...आज मैंने तुम्हारे दीन (इस्लामी जीवन व्यवस्था की पूर्ण रूपरेखा) को तुम्हारे लिए पूर्ण कर दिया है और तुम पर…

शबे क़द्र और इस की रात का महत्वः (हिंदी में)

रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है, जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है। जिसे शबे क़द्र कहा जाता है। शबे क़द्र का अर्थ होता हैः "सर्वश्रेष्ट रात", ऊंचे स्थान वाली रात”, लोगों के नसीब लिखी जानी वाली रात।शबे क़द्र बहुत ही महत्वपूर्ण रात है, जिस के एक रात की इबादत हज़ार महीनों (83 वर्ष 4 महीने) की…

ज़कात क्या है ? और किसको देनी चाहिये ?

रमज़ान के अशरे में सब मुसलमान अपनी साल भर की कमाई की ज़कात निकालते है। तो ज़कात क्या है ? *कुरआन मजीद में अल्लाह ने फ़र्माया है : "ज़कात तुम्हारी कमाई में गरीबों और मिस्कीनों का हक है।" ज़कात कितनी निकालनी चाहिये इसके लिए आप इस ऑडियो को सुने - ♫ Ramzan Ke Masail - Zakat , Fitr , Sadqa और ज़कात किसे…

जानिए – रोज़ा क्या और क्यों ?

इंसान के बुनियादी सवाल !!! इस सम्पूर्ण विश्व और इंसान का अल्लाह (ईश्वर) एक है। ईश्वर ने इंसान को बनाया और उसकी सभी आवश्यकताओं को पूरा करने का प्रबंध किया। इंसान को इस ग्रह पर जीवित रहने के लिए लाइफ सपोर्ट सिस्टम दिया।इंसान को उसके मूल प्रश्नों का उत्तर भी बताया।इंसान को क्या कोई बनाने वाला है?…

तरावीह की नमाज़ के वैज्ञानिक फायदे (Scientific Benefits of Salah)

नमाज में हैं तन्दुरुस्ती के राज: मोमिन अल्लाह के हर फरमान को अपनी ड्यूटी समझ उसकी पालना करता है। उसका तो यही भरोसा होता है कि अल्लाह के हर फरमान में ही उसके लिए दुनिया और आखिरत की भलाई छिपी है,चाहे यह भलाई उसके समझ में आए या नहीं। यही सोच एक मोमिन लगा रहता है अल्लाह की हिदायत के मुताबिक जिंदगी गुजारने…

इस्लाम दूसरे धर्मों के बारे में अपमानजनक बातें कहने की अनुमति नहीं देता

» प्रश्नः क्या दूसरे मज़हबों के धार्मिक ग्रंथों और उनके ईष्ट देवी-देवताओं के बारे में अपमानजनक बातें करने से... उनका दिल दुखाने से अल्ल्लाह ख़ुश होगा...? • उत्तरः हमें पूर्ण विश्वास है कि अन्य धर्मों के धार्मिक ग्रन्थ या तो मानव रचित हैं अथवा किसी युग में ईश्वरीय ग्रन्थ थे परन्तु आज वह सुरक्षित न रहे और…

भूत, प्रेत, बदरूह की हकीकत

भूत, प्रेत, बदरूह: ये नाम अकसर इन्सानी ज़हन मे आते ही एक डरावनी और खबायिसी शख्सियत ज़ेहन मे आती हैं क्योकि मौजूदा मिडिया ने इन्सान को इस कदर गुमराह कर रखा हैं के जो नही हैं उसको इतनी खूबसूरती के साथ ये मिडिया वाले पेश करते हैं के इन्सान जिसकी ताक मे शैतान हमेशा हर राह मे लगा हुआ हैं वो फ़ौरन शैतान के डाले…