Eid ul Fitr 2020 Lockdown me Eid ul fitr kaise manaye

Eid ul Fitr 2020: लॉक डाउन में ईद उल फित्र कैसे मनाये, जरूरी हिदायात

रमजान का मुबारक महीना तेजी से इख्तिताम की तरफ बढ़ रहा है और ईद की आमद है, कोरोना वायरस की …

Read moreEid ul Fitr 2020: लॉक डाउन में ईद उल फित्र कैसे मनाये, जरूरी हिदायात

Austrelia Fire - Muslims pray rain Bonython Park Adelaide amid bushfire drought crisis

Australia Fire: आस्ट्रेलिया में मुसलमानों की नमाजे इस्तसक़अ पढ़ते ही हुई तेज़ बारिश

सुभान अल्लाह! आस्ट्रेलिया में मुसलमानों की नमाज़ इस्तसक़अ (استسقاء) पढ़ते ही हुई तेज़ बारिश, ईसाई हैरान। पिछले दो दिन से …

Read moreAustralia Fire: आस्ट्रेलिया में मुसलमानों की नमाजे इस्तसक़अ पढ़ते ही हुई तेज़ बारिश

रसायनशास्त्र के सबसे पहले जनक थे जाबिर बिन हियान

जाबिर बिन हियान जिन्हें इतिहास का पहला रसायनशास्त्री कहा जाता है उसे पश्चिमी देश में गेबर (geber) के नाम से …

Read moreरसायनशास्त्र के सबसे पहले जनक थे जाबिर बिन हियान

मस्जिद को बम से उड़ाने के ख्वाब देखने वाला खुद बन गया मुसलमान। Islamic Revert Story Richard McKinney

मस्जिद को बम से उड़ाने के ख्वाब देखने वाला खुद बन गया मुसलमान।

इस्लाम से बेइंतहा नफरत करने वाला एक शख्स कभी मस्जिद को बम से उड़ाना चाहता था लेकिन अब उसने खुद …

Read moreमस्जिद को बम से उड़ाने के ख्वाब देखने वाला खुद बन गया मुसलमान।

मुस्लिम-विरोधी स्वतंत्रता पार्टी के डच राजनेता ने सोमवार 04/02/2019 को घोषणा की कि उन्होंने इस्लाम धर्म अपना लिया है। Joram-van-Klaveren-revert-to-islam

इस्लाम विरोधी पुस्तक लिखने के बाद डच राजनेता अब खुद बन गए मुस्लिम

पूर्व सुदूरवर्ती डच राजनेता ने सोमवार को घोषणा की कि उन्होंने इस्लाम धर्म अपना लिया है। इस्लाम पर एक किताब …

Read moreइस्लाम विरोधी पुस्तक लिखने के बाद डच राजनेता अब खुद बन गए मुस्लिम

खाड़ी युद्ध के दौरान तीन हजार अमेरिकी सैनिकों ने अपनाया था इस्लाम

खाड़ी युद्ध के दौरान तीन हजार अमेरिकी सैनिकों ने अपनाया था इस्लाम

क्या आपने भी सुना था कि खाड़ी युद्ध के दौरान तीन हजार अमेरिकी सैनिकों ने इस्लाम अपना लिया था। यह …

Read moreखाड़ी युद्ध के दौरान तीन हजार अमेरिकी सैनिकों ने अपनाया था इस्लाम

मस्जिदुल हरम में कीड़ो के तूफ़ान की हकीकत (Reality of Locusts Swarm in Mecca-Saudi Arabia)

मुसलमानो के सबसे मुक़द्दस मक़ाम मस्जिदुल हराम में कीड़ो का तूफ़ान, जो मरकज़ी दरवाज़ों और दीवारों समेत साथ माले की बिल्डिंग्स और स्कूल तक बिखर गए। आईये देखते है इसकी हकीकत के यह सब हिक्मते अमली या फिर अल्लाह तआला का अज़ाब।

मस्जिदुल हराम में 7 जनवरी को होने वाले इस वाकिये की वीडियोस और तस्वीरें मुसलसल इंटरनेट पर गर्दिश कर रही है, जिसे देख कर बोहोत से लोग ताज्जुब और परेशान है के आखिर ये मामला क्या है क्यूंकि वीडियोस में ये वाजेह तौर पे देखा जा सकता है के टिड्डी नुमा ये कीड़े मस्जिदुल हराम की दीवारों पर बड़ी तादाद में मंडरा के शोर कर रहे है जो दिखने में काफी तकलीफदेह है।

मकामी लोगो ने जब मक्काह गवर्नमेंट से इसके मुताल्लिक जवाब तलब किया तो उन्होंने इसके मुताल्लिक ये वजाहत ट्विटर पर जारी की, के दरहसल २२ टीम्स को जो १२० लोगों पर मुश्तमिल थी इन्हे ख़ास स्प्रे करके इन कीड़ों को फौरी तौर पर तलफ करने के लिए अहकामात दे दिए गए है। ताकि यहाँ मौजूद जाहेरीन की हिफाज़त को यकीनी बनाया जा सके।

✦ कैसे आये हरम में कीड़े ?

दरहसल सऊदी अरब में गुजिस्ता साल यानी साल 2018 में बोहोत ज्यादा गैर मामूली मौसमियाति तब्दीलिया देखने में आयी क्यूंकि इस साल मामूल से ज्यादा बारिशे हुई, अगस्त के महीने में एक हवाई तूफ़ान आया जिससे मस्जिदुल हराम में मौजूद १० जाहेरीन भगदड़ मचने की वजह से ज़ख़्मी भी हुए जबकि खाना ऐ काबा का गिलाफ भी हवा की वजह से लहराता रहा।

इसके आलावा नवंबर में सैलाब आया जबकि इससे पहले फरवरी के महीने में टेनिस बॉल के साइज के जितने हौले भी पड़े थे इसी मौसमियाति तब्दीलियों की बदौलत नमी की वजह से ये कीड़े छुपकर अपनी तादाद बढ़ाना शुरू हो गए तो इनकी इस रिप्रोडक्शन को रोकने की वजह से मस्जिदुल हराम के इन्तेज़ामियाँ ने ये स्प्रे किया ताकि इन्हे इनकी छुपी हुई जगह से बाहेर निकाल कर एक जगह इकट्ठा किया जाये और आसानी से तलफ किया जा सके और ऐसा ही हुआ और ये तमाम कीड़े एक जगह इकट्ठे होकर एक तूफ़ान की सूरत इख़्तियार कर गए और इनकी तकलीफदेह आवाज़ ने लोगों को परेशान कर दिया।

✦ कितने नुकसान देह है यह कीड़े ?

ये कीड़े नुकसान देह बिलकुल नहीं है लेकिन शोर बोहोत ज़्यादा करते है जिन्हे स्प्रे करके मुकम्मल तौर पर साफ़ कर दिया गया है। हो सकता है के इस मौके को गनीमत जानते हुए बोहोत से लोगों को ग़लतफहमी फैलाने का मौका मिल जाये और इसे भी क़यामत की निशानी से जोड़ दे। जैसा की सऊदी अरब के शहर कासिम जाने वाली पाइपलाइन जब सेराह में फट गयी और इससे पानी निकलने लगा तो लोगों ने इसे भी क़यामत की निशानी से जोड़ दिया के सेहरा के अंदर पानी का चशमा निकल आया है। इन्ही चंद लोगों की वजह से मुसलमान तो गुमराह होते ही है साथ साथ गैर मुस्लिम भी हमारा मज़ाक उड़ाते है।

✦ इबरत ?

तो मस्जिदुल हराम में नज़र आने वाला कीड़ो का ये तूफ़ान एक गैर मामूली मौसमीयाती तबदीली का नतीजा है जिसका ज़ाहिर होना कोई हैरत की बात नहीं क्यूंकि अल्लाह ताअला की ज़ात अपने घर की हिफाज़त करना खूब जानती है और चाहे तो सिर्फ परिंदो की मदद से पूरी इंसानी फ़ौज को नेस्तोनाबूद कर सकती है तो फिर ये कीड़े क्या चीज़ है। लिहाजा घबराने की कोई बात नहीं। अल्लाह तआला हमें भी अपने घर की जियारत नसीब फरमाए। अमीन !!!

Videos Dekhe

 

 

 

 

Babri Masjid: बाबरी मस्जिद गिराने में शामिल रहे बलबीर सिंह और उनके २ दोस्तों ने इस्लाम अपनाकर मस्जिदें बनवाईं

Babri Masjid: बाबरी मस्जिद गिराने में शामिल रहे बलबीर सिंह और उनके २ दोस्तों ने इस्लाम अपनाकर मस्जिदें बनवाईं

Kar Sevak Balbir Singh was part of Babri masjid demolition. He later converted himself to Islam and became Mohammed Aamir.

“They plan, and Allah plans. Surely, Allah is the Best of planners”

# Holy Quran 8:30

[bs-text-listing-2 columns=”1″ title=”Related Post” icon=”” hide_title=”0″ tag=”6347,24053″ count=”30″ order_by=”rand” custom-css-class=”_qoutes”]

✦ Keywords: Babri Masjid,Babri Masjid ayodhya, kaar sevak ayodhya, kaar seva ayodhya, balbir singh kar sevak , balbir singh Mohammed Aamir , babri demolition, ram mandir babri masjid, Mohammed Aamir Balbir, ayodhya ram mandir, ayodhya news today, ayodhya news, babri masjid demolition real video, babri demolition video, babri demolition 1992, babri demolition vajpayee, kar sevak balbir singh, ram mandir news, ram mandir ayodhya, ram mandir latest news

Eid Milad Un Nabi 2019 : जश्ने मिलाद उन नबी (ﷺ) के नाम पर केक, DJ और तवायफों का नाच

जो पूरा साल अपनी माँ की खिदमत नहीं करते वो एक दिन चुनकर “मदर डे” मनाते है, इसी तरह फादर्स …

Read moreEid Milad Un Nabi 2019 : जश्ने मिलाद उन नबी (ﷺ) के नाम पर केक, DJ और तवायफों का नाच

क्यों हो जाते है लोग इतने बेहरहम ? क्या इन्हें खुदा का खौफ नहीं है ?

सदियों से हम इन्सानो पर हो रहे ज़ुल्म की दास्ताँ सुनते आ रहे है, ज़ालिम इस हद्द तक क़त्ले आम …

Read moreक्यों हो जाते है लोग इतने बेहरहम ? क्या इन्हें खुदा का खौफ नहीं है ?

नबी स. पर बनने वाली फिल्म की न्यूज़ सिर्फ एक अफवाह है इस पोस्ट को हर मुस्लमान तक पोह्चाये

३ दिन पहले मैंने फेसबुक पर एक विडियो देखा जिसमे कुछ हरामी लोग ये न्यूज़ बनाकर कह रहे थे के …

Read moreनबी स. पर बनने वाली फिल्म की न्यूज़ सिर्फ एक अफवाह है इस पोस्ट को हर मुस्लमान तक पोह्चाये

मेरे देश के लोगों, अब तो चेतो…. ये नफ़रत तुम्हें कुछ नहीं देने वाली…

मेरे पड़ोसी शहर, उत्तराखण्ड के हल्द्वानी का रहने वाला प्रकाश पांडेय नाम का वो ट्रांसपोर्ट कारोबारी बीजेपी का पैरोकार था, …

Read moreमेरे देश के लोगों, अब तो चेतो…. ये नफ़रत तुम्हें कुछ नहीं देने वाली…

आश्रम के बलात्कारी बाबाओ को बचाने अब दलाल मीडिया “मुस्लिम गर्ल्स हॉस्टल” को कर रही बद्दनाम

जब पुरे देश से आश्रमों में इनके बलात्कारी बाबाओ की रंगरलिया पकड़ी जाने लगी तो इस्लाम विरोधी मीडिया अपनी औकात …

Read moreआश्रम के बलात्कारी बाबाओ को बचाने अब दलाल मीडिया “मुस्लिम गर्ल्स हॉस्टल” को कर रही बद्दनाम

बेटे के कातिल को मुआफ कर अब्दुल मोमिन ने दुनिया भर को दिया इस्लाम का असल पैगाम

अमेरिका में एक मुस्लिम पिता ने अपने बेटे के कातिल को मुआफ कर के इस्लाम की असल तस्वीर पेश की हैं, पिता ने कहा के ये मुआफी उसके बेटे के कातिल के लिए इस्लाम का सबसे बड़ा तोहफा होगा |

*विडियो देखे:

अमेरिका एक कोर्ट ने जैसे ही हत्यारे एलेग्जेंडर को ३१ साल की सजा सुनाई तो जिस लड़के का कतल हुआ था उसके पिता ने कातिल को इस्लाम का हवाला देकर मुआफ कर दिया, ये नज़ारा देख कर ना सिर्फ कोर्ट में मौजूद हर शख्स रो पड़ा बल्कि खुद कातिल के आँखों में भी आंसू आ गए |

पूरी दुनिया में जहा इस्लाम के नाम पर आतंक मचाया जा रहा है वही अमेरिका के एक कोर्ट ने एक मुस्लिम पिता के कातिल बेटे को सिर्फ इसलिए मुआफी दे दी क्यूंकि वो इस्लाम का असल चेहरा दुनिया के सामने पेश करना चाहता है,.
पिता अब्दुल मोमिन ने कहा “मै अपनी तरफ से, अपने बेटे सलाहुद्दीन और उसकी मरहूम माता की तरफ से ये कतल मुआफ करता हु, साथ ही में पिता ने कातिल से कहा के मै तुम्हे इस क़त्ल के बारे में जिम्मेदार नहीं ठहराता , मै मेरे बेटे को तकलीफ पोहचाने की वजह से तुमसे नाराज़ भी नहीं हु, बल्कि मै उस शख्स से खपा हु जिसने तुम्हे इन्सानियत से गिरा हुआ कदम उठाने के लिए गुमराह किया”

आगे वो कहते है के “इस्लाम का सबसे बड़ा तौफा मुआफी और खैरात है , इसीलिए ये तौफा मैंने अपने बेटे के कातिल को देने का फैसला किया है”

अब्दुल मोमिन आगे कहते है के “अल्लाह सब पर रेहम करनेवाला है, सबके गुनाहों को मुआफ करनेवाला है, उन्होंने कहा के अल्लाह ने कुरान में इंसानों से वादा किया है के अगर इन्सान उस से अपने गुनाहों की मुआफी मांगेगा तो अल्लाह उनके बड़े से बड़े गुनाहों को भी मुआफ कर देगा” इसीलिए कुरान के फरमान को सामने रखते हुए मैंने कातिल को मुआफ कर दिया ताकि वो आईंदा कोई अपराध न करे और अपने माता पिता के सपनो को साकार करे,.

*क्यों और कैसे हुआ था कतल:

ये बात २०१५ की है जब अब्दुल मोमिन का बेटा सलाहुद्दीन पिज़्ज़ा दिलिवेरी का काम करता था, एक रोज़ वो पिज़्ज़ा देने के लिए जा रहा था तब एलेग्जेंडर ने उसे लुटने के मकसद से हमला कर दिया और वो गंभीर रूप से घायल हो गया, जिस से सलाहुद्दीन की मौत हो गयी” ये मुआमला कोर्ट में 2 साल चलता रहा आखिर में केस की जब सुनिवाई हुई तो कोर्ट ने कातिल को ३१ साल की सजा सुनाई, लेकिन सलाहुद्दीन के पिता ने कोर्ट के सामने ही अपने बेटे के कातिल को मुआफ कर इस्लाम के अमन का पैगाम दिया,.

एक तरफ अब्दुल मोमिन है जिसने इस्लाम का असल पैगाम दुनिया भर के सामने लाया और दुसरी तरफ कुछ ऐसे लोग है जो इस्लाम को दहशतगर्दी से जोड़ रहे है ऐसे लोगो को अब्दुल मोमिन से सबक लेनी चाहिए और इस्लाम का जो असली मकसद है उसे दुनिया के सामने लाना चाहिए, याद रहे इस्लाम का असली मकसद मुआफ करना है ना की दहशत फैलाना,.

*खैर मुमकिन है के इस न्यूज़ को हमारी मीडिया नहीं दिखाएगी अब आपको ही इसे आगे पोहचाना है,.

– साभार: रियल फ्लेवर न्यूज़

३ साल की कड़ी मेहनत के बाद राजीव भाई ने पेश किया कुरान का मारवाड़ी अनुवाद

जी हाँ ! जहा आज दुनिया भर में कुरान और इस्लाम के खिलाफ न जाने कितनी किताबे लिखी जा रही …

Read more३ साल की कड़ी मेहनत के बाद राजीव भाई ने पेश किया कुरान का मारवाड़ी अनुवाद

माशाल्लाह! शादी की सालगिरह में ऐसा काम, किया मंदिर और मस्जिद दोनो ने इन्तेजाम

अस्सलामो अलैकुम , मैं मोहम्मद इम्तियाज,जिस तरह अपने शादी के वक्त एक कैंपेन,”एंटी डोरी कैंपेन लड़कियां रहमत है जहमत नहीं” …

Read moreमाशाल्लाह! शादी की सालगिरह में ऐसा काम, किया मंदिर और मस्जिद दोनो ने इन्तेजाम

रोहिंग्या मुसलमान कौन हैं और इन पर इतना ज़ुल्म क्यों ?

रोहिंग्या मुसलमान बौद्ध बहुल देश म्यांमार के रखाइन प्रांत में शताब्दियों से रह रहे हैं। इनकी आबादी क़रीब दस लाख …

Read moreरोहिंग्या मुसलमान कौन हैं और इन पर इतना ज़ुल्म क्यों ?

जानिए – क्यों मनायी जाती है बकरी ईद

ईद उल अज़हा को सुन्नते इब्राहीम भी कहते है। इस्लाम के मुताबिक, अल्लाह ने अपने नबी(प्रेषित) हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम की …

Read moreजानिए – क्यों मनायी जाती है बकरी ईद

आज़ादी मुबारक …. ये आज़ादी हमें याद दिलाती है (Happy Independence Day)

तमाम हिन्दोस्तानी भाई बहनों को यौम-ए-आज़ादी मुबारक (Happy Independence Day)…. ये आज़ादी हमें याद दिलाती है, कि हम उन ज़ालिम …

Read moreआज़ादी मुबारक …. ये आज़ादी हमें याद दिलाती है (Happy Independence Day)

जो ATS ना कर सकी वो मीडिया ने कर दिखाया | आतंकवाद के इलज़ाम में बेगुनाह मुसलमानों को फसाया

सूत्रों के अनुसार पता चला के कल उत्तर प्रदेश के देवबंद से ६ मुसलमानो को आतंकी होने के शक में …

Read moreजो ATS ना कर सकी वो मीडिया ने कर दिखाया | आतंकवाद के इलज़ाम में बेगुनाह मुसलमानों को फसाया

सहरी के लिए उठे मुसलमानों ने बचाई आग से कई लोगो की जान

लन्दन: 14 June लन्दन के टावर में लगी भयानक आग में जिन लोगों ने सबसे ज्यादा मदद की वो मुस्लिम …

Read moreसहरी के लिए उठे मुसलमानों ने बचाई आग से कई लोगो की जान

जब मस्जिदों का असल हक़ हुआ अदा और खोला गया गैरमुस्लिमो के लिए दरवाजा

केरला: देशभर में 7 मई को मेडिकल कॉलेजों में नीट का एग्ज़ाम था. ये एग्जाम सुबह 10.00 बजे से 01 …

Read moreजब मस्जिदों का असल हक़ हुआ अदा और खोला गया गैरमुस्लिमो के लिए दरवाजा

दहेज़ की मुखालिफत में JNU के छात्र ने किया कमाल | सादगी भरे निकाह से कायम की अनोखी मिसाल

मुजफ्फरपुर (बिहार) आये दिन दहेज़ के नाम पर इस मुल्के हिंदुस्थान में खवातीन पर होने वाले अनगिनत ज़ुल्म नज़र आ …

Read moreदहेज़ की मुखालिफत में JNU के छात्र ने किया कमाल | सादगी भरे निकाह से कायम की अनोखी मिसाल