Browsing Category

आख़िरत

6. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हजरत जमीला बिन्ते सअद बिन रबी (र.अ.) हुजूर का मुअजिजा: हुजूर (ﷺ) की दुआ का असर एक फर्ज के बारे में: इल्म हासिल करना जरूरी है एक सुन्नत के बारे में: हर तरह की परेशानी से छुटकारा एक अहेम अमल की फजीलत: शहादत की…
Read More...

5. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हजरत खौला बिन्ते सअलबा (र.अ.)अल्लाह की कुदरत: बदन के जोड़ एक फर्ज के बारे में: नमाज़ छोड़ने पर वईद एक सुन्नत के बारे में: बैतुलखला जाने का तरीका एक अहेम अमल की फजीलत: रास्ते से तकलीफ देह चीज़ को हटाना एक…
Read More...

4. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हज़रत आयशा (र.अ) का इल्मी मर्तबा हुजूर का मुअजिजा: आंधी आने की खबर देना एक फर्ज के बारे में: हज किन लोगों पर फ़र्ज़ है एक सुन्नत के बारे में: मुशकिल कामों की आसानी की दुआ एक अहेम अमल की फजीलत: सूर-ए-इख्लास…
Read More...

3. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: उम्मुल मोमिनीन हजरत आयशा (र.अ)अल्लाह की कुदरत: एक ही पानी से फल और फूल की पैदाइश एक फर्ज के बारे में: पानी न मिलने पर तयम्मुम करना एक सुन्नत के बारे में: इस्तिंजा के वक्त कपड़ा हटाने का तरीका एक अहेम अमल की…
Read More...

2. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हज़रत खदीजा (र.अ) की फजीलत व खिदमात एक फर्ज के बारे में: नमाज़ों का सही होना एक सुन्नत के बारे में: मुसीबत के वक्त की दुआ एक अहेम अमल की फजीलत: इल्म हासिल करने के लिये सफर करना एक गुनाह के बारे में: अहेद और…
Read More...

1. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: उम्मुल मोमिनीन हज़रत खदीजा (र.अ)अल्लाह की कुदरत: समुन्दर का उतरना चढ़ना एक फर्ज के बारे में: अल्लाह तआला पूरी कायनात का रब है एक सुन्नत के बारे में: माफ़ करना एक अहेम अमल की फजीलत: शव्वाल में छ: (६) रोजे…
Read More...

कयामत की तारीख की ख़बर?

Contentमैदाने हश्र – मुख्य सूचिक़यामत की तारीख ? कयामत अचानक आ जाएगी जुम्मा का दिन होगा۞ बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम ۞ कयामत की तारीख़ की ख़बर नहीं दी गई अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ही जानता हैं कि कयामत कब आयेगी। कुरान ऐ करीम में…
Read More...

आखिरत – इस्लाम की तीसरी अनिर्वाय आस्था

आखिरत का अर्थ होता है – परलोकवाद (अंतिम प्रलय या मृत्यु के पच्छात जीवन पर विश्वास): *जैसे के: हम इस जीवन से पहले मृत्य थे, इश्वर(अल्लाह) ने हमे पृथ्वी पर भेजा (जीवन दिया).. तो एक मृत्यु और उसके बाद ये जीवन एक हुआ ,. इस जीवन के बाद फिर एक…
Read More...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More