बेहतरीन बीवी और बेहतरीन शौहर की पहचान

1

बेहतरीन बीवी की पहचान

✓ जो अपने शौहर की फरमाबरदारी और ख़िदमत गुज़ारी को अपना फ़र्ज़-ऐ-अज़ीम समझे।

✓ जो अपने शौहर के तमाम हुक़ूक़ अदा करने में कोताही न करें।

✓ जो अपने शौहर की खूबियों पर नज़र रखे और उसके ऐब और खांमियों को नज़र-अंदाज़ करती रहे।

✓ जो खुद तकलीफ उठा कर अपनों शौहर को आराम पहुंचाने की हमेशा कोशिश करते रहे।

✓ जो अपने शौहर से उसकी आमदनी से ज़्यादा का मुतालबा न करे और जो मिल जाये उसपर सब्र और शुक्र के साथ ज़िन्दगी बसर करे।

✓ जो अपने शौहर के सिवा किसी अजनबी मर्द पर निगाह न डाले न किसी की निगाह अपने ऊपर पड़ने दे।

✓ जो परदे में रहे और अपने शौहर की इज़्ज़त ओ नमूस की हिफाज़त करे।

✓ जो शौहर के माल और मकान ओ सामान और खुद अपनी जात को शोहर की अमानत समझ कर हर चीज़ की हिफाज़त ओ निगेहबानी करती रहे।

✓ जो अपने शौहर की मुसीबत में अपनी जानी और माली क़ुरबानी के साथ वफादारी का सबूत दे।

✓ जो परहेज़गारी की पाबन्द और दीनदार हो, हुक़ूक़ अल्लाह और हुक़ूक़ उल इबाद को अदा करती हो।

✓ जो पड़ोसियों(औरतो) और मिलने जुलने वाली औरतों यानि सास, ननन्द, ससुराली रिश्तेदार के साथ खुश अख़लाक़ी और शराफ़त का बर्ताव करे।

✓ जो मायका और ससुराल दोनों घरों में हर दिल अज़ीज़ और बा इज़्ज़त हो।

2

बेहतरीन शौहर की पहचान

✓ जो अपनी बीवी के साथ नरमी, खुश अखलाखी और हुस्ने सुलूक के साथ पेश आये।

✓ जो अपनी बीवी के हुक़ूक़ अदा करने में किसी किस्म की ग़फ़लत और कोताही न करे।

✓ जो अपनी बीवी का इस तरह हो कर रहे के किसी अजनबी औरत पर निगाह न डाले।

✓ जो अपनी बीवी को अपने ऐश-ओ-इशरत में बराबर समझे।

✓ जो अपनी बीवी पर कभी ज़ुल्म और किसी किस्म की भी ज्यादती न करे।

✓ जो अपनी बीवी की तंग मिज़ाजी और बद अख़लाक़ी पर सब्र करे।

✓ जो अपनी बीवी की खूबियों पर नज़र रखे और मामूली गलतियों को नज़र अंदाज़ करे।

✓ जो अपनी बीवी की मुसीबतों, बिमारियों और रंज और गम में दिलजोई और वफादारी का सबूत दे।

✓ जो अपनी बीवी को परदे में रख कर इज़्ज़त और आबरू की हिफाज़त करे।

✓ जो अपनी बीवी को जिल्लत और रुसवाई से बचाए रखे।

✓ जो अपनी बीवी को दीनदारी की ताकीद करता रहे और शरीअत की राह पर चलायें।

✓ जो अपनी बीवी के अखराजात(खर्चे) में बख़ीली और कंजूसी न करे।

✓ जो अपनी बीवी को इस तरह ताबेय (कण्ट्रोल में) रखे के वो किसी बुराई की तरफ़ रूख़ भी न कर सके।

इंशा अल्लाह उल अजीज ! अल्लाह तआला हमे कहने सुनने से ज्यादा अमल की तौफीक दे।

# Related Hadith

  1. Biwi ke Huqooq Qurano Sunnat ki Roshni me
  2. Behatreen Aurat ki Sifat aur Pehchan
  3. Jannati Aurat ki Pehchan aur Khubi
  4. Behtareen Biwi aur Behtareen Shohar ki Pehchan
  5. Nek Aur Farmabardar Aurat Ka Silaah
  6. Aurto ki Jannat ya Dozakh Unka Shohar hai
  7. Shohar ki Napasandida baato se doori Ikhtiyar kare
  8. Shohar ki Nashukri Karne wali Biwi ka Anjaam
  9. Shohar ki Nashukri Karna ek tarha ka kufr hai
  10. Apne Shohar ke siwa dusre Mard ka zikr na kare
  11. Shohar par Biwiyon ke Huquq Kya hai ?
  12. Kya Biwi Shohar ko Zakaat de sakti hai?
  13. Aurat ke liye Shirk ke baad sabse bada Gunaah
  14. Aurat ke liye Parde ka Hukm Qurano Sunnat ki Roshni me
  15. Binaa kisi khas wajah se Talaaq mangne waali Aurat ka Hashr

For more Islamic messages kindly download our Mobile App

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More