Browsing archive

Topic: कुरआन व सुन्नत की नसीहत

दुनिया और आख़िरत की भलाई के बारे में कुरआन और नबी ए करीम ﷺ की रेहनुमायी।

अल्लाह ताला कुफ्र को पसंद नहीं करता

कुरआन में अल्लाह फर्माता है : “अगर तुम मुन्किर होगे, तो यकीन जानो के अल्लाह तआला तुम से बेनियाज है और अपने बन्दों के लिये कुफ्र को पसन्द नहीं करता और अगर तुम शुक्र करोगे, तो तुम्हारे इस शुक्र को पसन्द करेगा।”

मेहमान की दावत व मेहमान नवाजी तीन दिन है

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया : “जो आदमी अल्लाह और यौमे आखिरत पर ईमान रखता हो, उसे अपने मेहमान का इकराम करना चाहिये, एक दिन व रात की खिदमत उस का जाइज हक़ है और उस की दावत व मेहमान नवाजी तीन दिन है, उस के बाद की मेजबानी उस के लिये सदक़ा है और मेहमान […]

अक्लमंद लोग क़ुरआन से नसीहत हासिल करे

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है: “यह ( कुरआन ) एक बाबरकत किताब है, जिस को हम ने आप पर इस लिये नाजिल किया है के लोग उस की आयतों में गौर व फिक्र करें और अक्लमंद लोग उस से नसीहत हासिल करे।

पडोसी का इकराम किया करो

۞ हदीस: रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया : “जो अल्लाह और आखिरत के दिन पर ईमान रखता हो उसे अपने पडोसी का इकराम करना चाहिये। सहाबा ने पुछा: या रसुलल्लाह (ﷺ) पड़ोसी का क्या हक़ है ? फरमाया : अगर वह तुम से कुछ माँगे तो उस को दे दिया करो।”

इंसान को उस के माँ बाप के बारे में ताकीद

कुरआन में अल्लाह तआला फरमाता है: “हमने इन्सान को उस के माँ बाप के बारे में ताकीद की हे के बाप के साथ अच्छा बर्ताव करे, ( क्योंकि ) उस की माँ ने तकलीफ पर तकलीफ उठा कर उस को पेट मैं रखा और दो साल में उस का दूध छुड़ाया है, ऐ इन्सान ! […]

किसी बुराई को देखे तो उसे रोकने की कोशिश करे

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया : “तुम में से जो शख्स किसी बुराई को देखे तो उसे अपने हाथ से रोके अगर इस की ताकत न हो तो अपनी ज़बान से रोके.फिर अगर इस की भी ताकत न हो तो दिल से उस जाने और यह ईमान का सब से कमजोर दर्जा है।”

ऐ ईमान वालो तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो

कुरआन में अल्लाह तआला फर्रमाता है : “ऐ ईमान वालो तुम शैतान के नक्शे कदम पर न चलो और जो शैतान के नक्शे कदम पर चलेगा, तो शैतान तो बे हयाई और बुरी बातों का हुक्म करता है।”

अल्लाह का सहारा मजबूती से पकड़ लो

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है : “और अल्लाह का सहारा मजबूती से पकड़ लो, वही तुम्हारा काम बनाने वाला है और (जिस का काम बनाने वाला अल्लाह हो तो) अल्लाह तआला क्या ही अच्छा काम बनाने वाला है और क्या ही अच्छा मददगार है।”

अल्लाह तआला ने ज़ुल्म को हराम कर दिया है

रसूलुल्लाह (ﷺ) हदीसे कुदसी बयान करते हुए फर्माते हैं के अल्लाह तआला फर्माता है : “ऐ मेरे बन्दो! मैंने अपने ऊपर जुल्म को हराम कर दिया है और उस को तुम्हारे दर्मियान भी हराम कर दिया है, लिहाजा तुम एक दूसरे पर जुल्म मत किया करो।”

जमीन पर अकड़ कर मत चलो

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है : “जमीन पर अकड़ कर मत चलो (क्योंकि) तुम न तो जमीन को फाड़ सकते हो और ना तन कर चलने से पहाड़ों की बुलन्दी तक पहुँच सकते हो।”

दावत कबूल करे

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “जब तुम में से किसी को खाने की दावत दी जाए तो उस को कबूल करना चाहिये, फिर अगर वह चाहे तो खाना खाले और न चाहे तो छोड़ दे।”

अल्लाह तआला अद्ल व इंसाफ का हुक्म देता है

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “अल्लाह तआला अद्ल व इन्साफ और अच्छा सुलूक करने का और रिश्तेदारों को माली मदद करने का हुक्म देता है और बेहयाई, ना पसन्द कामों और जुल्म व ज़ियादती से मना करता है, वह तुम्हें ऐसी बातों की नसीहत करता है, ताके तुम (उनको) याद रखो।”

खाने में बरकत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “बरकत खाने के बीच में उतरती है, तुम किनारे से खाया करो,खाने के। बीच से मत खाया करो।”

अल्लाह तआला के साथ किसी को शरीक न करो

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “अल्लाह तआला के साथ किसी को शरीक न करो, माँ, बाप के साथ अच्छा सुलूक करो, और तंगदस्ती के खौफ से अपनी औलाद को कत्ल न करो, हम तुम, को भी रिज्क देते हैं और उन को भी; खुले और छुपे बेहयाई के कामों के करीब न जाओ।”

मजलूम की बद्दुवा से बचो

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया: “ऐसे शख्स की बद्दुआ से बचो, जिस पर जुल्म किया गया हो, इस लिए के उसकी बद्दुआ और अल्लाह के दर्मियान कोई आड़ नहीं होती है।”

अल्लाह और उस के रसूल की इताअत करो

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है : ” ऐ ईमान वालो! तुम अल्लाह और उस के रसूल की इताअत करो और (शरीअत के मुताबिक फैसला करने वाले) हाकिमों की भी इताअत करो।”

बाएँ हाथ से ना खाएं और ना पियें

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “तुम में से कोई अपने बाएँ हाथ से हरगिज़ न खाए और न बाएँ हाथ से पिये, क्योंकि शैतान अपने बाएँ हाथ से खाता पीता है।”

वसिय्यत के लिए दो इंसाफ पसंद लोग गवाह हो

कूरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “ऐ ईमान वालो ! जब तुम में से किसी को मौत आने लगे. “वसीय्यत के वक्त शहादत के लिये तूम (मुसलमानों) में से दो इन्साफ पसन्द आदमी गवाह होने चाहिये या फिर तुम्हारे अलावा दूसरी कौम के लोग गवाह होने चाहिये। जैसे तुम सफर में गए हो, फिर तुम्हें […]

औरतो से उनकी दिनदारी की वजह से निकाह करो

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “तुम औरतों से (सिर्फ) उन के हुस्न व जमाल की वजह से शादी न करो क्योकि हुस्न व जमाल खत्म होने वाला है और न उनकी मालदारी की वजह से शादी करो, मुमकिन है यह मालदारी उनको नाफ़रमानी में मुब्तला कर दे, अलबत्ता उनसे दीनदारी की बूनियाद पर निकाह करो।”

कुरआन को गौर से सुनना

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है: “जब कुरआन पढ़ा जाए, तो इसको पूरी तवज्जोह और गोर से सूना करो और खामोश रहा करो; ताकि तूम पर रहम किया जाए।”

फिजूलखर्ची मत किया करो

कुरआन में अल्लाह तआला फरमाता है: “ऐ आदम की औलाद ! तुम हर मस्जिद की हाज़री के वक्त अच्छा लिबास पहन लिया करो और खाओ पियो और फिजूलखर्ची मत किया करो, बेशक अल्लाह तआला फुजूल खर्ची करने वालों को पसन्द नहीं करता।”

अपनी औलाद को कत्ल न करो

कुरआन अल्लाह तआला फ़र्माता है: “तुम फक्र व फाका की वजह से अपनी औलाद को कत्ल न करो, हम उन को भी रोजी देते हैं और तुम को भी।”

इजाजत तलब करो

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “(अगर किसी से मिलने जाओ तो अन्दर दाखिल होने से पहले) तीन मर्तबा इजाजत तलब करो, अगर इजाजत मिल जाए तो ठीक है वरना वापस लौट जाओ।”

अगर कोई फासिक खबर लाये तो तहक़ीक़ किया करो

कुरआन में अल्लाह तआला फरमाता है : “ऐ ईमान वालो ! अगर कोई फासिक तुम्हारे पास कोई खबर, लेकर आए, तो उस की तहक़ीक़ कर लिया करो, कहीं ऐसा न हो, के तुम किसी कौम को अपनी ला इल्मी से कोई नुकसान पहुँचादो, फिर तुम को अपने किये पर पछताना पड़े।”

अपने मालों को ज़कात के जरिये महफूज़ बनाओ

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “अपने मालों को ज़कात के जरिये महफूज़ बनाओ। और अपने बीमारों का सदके से इलाज करो और अल्लाह तआला सामने आजिजी से इस्तकबाल करो।”

अपने भाइयों के दर्मियान सुलह किया करो

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “मुसलमान आपस में एक दूसरे के भाई है (अगर उनके दरमियान लड़ाई हो जाए) तो अपने दो भाइयों के दर्मियान सुलह करा दिया करो, और अल्लाह से डरते। रहा करो, ताके तुम पर रहम किया जाए।”

गुनाह और जुल्म व ज्यादती की बातें न करो

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है : “ऐ ईमान वालो! जब तुम आपस में खुफिया बातें करो, तो गुनाह और जुल्म व ज्यादती और रसुल की नाफ़रमानी की बातें न किया करो, बलके भलाई और परहेजगारी की बातें किया करो और अल्लाह से डरते रहो, जिसके पास तुम सब जमा किये जाओगे।”