Browsing tag

Hazrat Moosa ki Kahani in Hindi

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.7

बनी इसराईल की गौशालापरस्ती .     इसी बीच एक और अजीब व ग़रीब वाकिया पेश आया, वह यह कि कोहे तूर पर एतिकाफ़ में फैलाव से फायदा उठाकर एक आदमी सामरी [सामरी के बारे में मौलाना अबुल कलाम आज़ाद ने वजाहत की है कि वह बनी इसराईल में से न था, बल्कि वह सुमैरी क़ौम […]

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.6

फ़िरऔन, फ़िरऔन की क़ौम और कयामत का अजाब ………. फ़िरऔन और हजरत मूसा अलैहि सलाम का यह वाक्रिया हक व बातिल के मारके में एक शानदार मारका है- एक ओर गुरूर व घमंड, जब व जुल्म, तो दूसरी ओर मज्लुमियत, ख़ुदापरस्ती और सब्र व इस्तिकामत की फ़तह व कामरानी का अजीब व ग़रीब मुरक्का। इसलिए […]

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.5

फ़िरऔन का एलान ………. ग़रज जब फ़िरऔन और उसके सरदारों को मूसा अलैहि सलाम को हराने में नाकामी हुई तो फ़िरऔन ने अपनी कौम में एलान किया- ………. तर्जुमा- ‘ऐ कौम! क्या मैं मिस्र के ताज व तख़्त का मालिक नहीं हूँ। मेरी हुक़ूमत के क़दमों के नीचे ये नहरें बह रही हैं? क्या तुम […]

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.4

जादूगरों की हार और फ़िरऔन का रद्देअमल (प्रतिक्रिया) ………. बहरहाल जश्न का दिन आ पहुंचा, जश्न के मैदान में तमाम शाहाना कर व फ़र के साथ फ़िरऔन तख्तनशी है और दरबारी भी दर्जे के एतबार से क़रीने से बैठे हैं और लाखों इंसान हक व बातिल के मारके का नज़ारा करने को जमा हैं। एक […]

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.3

हज़रत मूसा अलैहि सलाम की एक नबी की हैसियत से मिस्र को वापसी और हज़रत हारून अलैहि सलाम को रिसालत का मंसब अता किया जाना। मिस्र में दाखिला ………. जब हज़रत मूसा अलैहि सलाम नुबूवत के मंसब से सरफ़राज़ होकर कलामे रब्बानी से फैजयाब बनकर और दावत और हक़ की तब्लीग़ में कामयाबी व कामरानी […]

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.2

हज़रत मूसा अलैहि सलाम की मिस्र से मदयन के लिए हिजरत मूसा अलैहि सलाम और मदयन का इलाका ………. हजरत शुऐब अलैहि सलाम के वाक़ियों में मदयन का जिक्र आ चुका है। मदयन की आबादी मिस्र से आठ मंजिल पर वाकए थी। हजरत मूसा अलैहि सलाम सलाम चूंकि फ़िरऔन के डर से भागे थे, इसलिए […]

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.1

हज़रत मूसा अलैहि सलाम की शुरूआती जिंदगी और बनी इसराईल मिस्र में ………. हज़रत यूसुफ़ अलैहि सलाम के किस्से में बनी इसराईल का जिक्र सिर्फ इसी क़दर किया गया था कि हज़रत याकूब और उनका ख़ानदान हज़रत यूसुफ़ अलैहि सलाम से मिलने मिस्र में आए, मगर उसके सदियों बाद फिर एक बार कुरआन करीम बनी […]