Browsing tag

Dajjal

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 6

दज्जाल के मुतालिक जो तीन कौल मशहूर है के ये दज्जाल है उनमे पहला सामरी जादूगर, दुसरा हैरम आबीफ तीसरा है अमेरिका। आईये इस पार्ट में अमेरिका पर एक नजर  डालते है। ३. अमेरिका ” बाज हजरात का कहना है कि अमेरिका दज्जाल है, क्योंकि दज्जाल की भी एक आंख होगी और अमेरिका की भी एक […]

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 5

दज्जाल कौन है? कहा है? और कब निकलेगा? दज्जाल कौन है इस हवाले से बाज़ हज़रात का दुसरा कौल है के वो “हैरम आबीफ” है। २.हैरम आबीफ : बाज अहले इल्म की राय है कि इससे हैरम आबीफ (या सखरा आसफ) मुराद है, ये हजरत सुलेमान (अलैहि सलाम) के दौर मे हैकल सुलेमानी के नो बडे मास्टर […]

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 4

दज्जाल कौन है? कहा है? और कब निकलेगा? ✦ दज्जाल कौन है? दज्जाल कौन है इस हवाले से मुख्तलिफ बाते की जाती रही है, बाज तो इतनी मजाहका खेज है कि बे अख्तियार हंसी आती है, हम इनसे सिर्फ नजर करते हुए यहा तीन मशहूर कौल जिक्र करके इन पर तबसीरा करते हुए चलेगे। १. सामरी […]

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 3

✦ दज्जाल का इरान से ताल्लुक: ❝ दज्जाल के साथ अश्फहान के सत्तर हजार यहुदी होगे जो इरानी चादरे ओढे हुए होगे। (सही मुस्लिम किताब अल फितन हदीस न. 2944) ❝ दज्जाल कौम यहुद से होगा। (सही मुस्लिम किताब अल फितन हदीस न. 2937) अश्फहान इरान आबाद का तीसरा बडा शहर है और शोबा अश्फहान […]

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 2

✦ दज्जाल का नाम और इसका मतलब: यहुदी अपने इस नजात दहिन्दा का आखिरी नाम यबुल, युबील, या हुबल बताते है, जो हमारी इस्लामी इस्तलाह मे तागुत और बुतो का नाम है और इसका लकब इनके यहा مسیحا या مسیا है। दज्जाल का असल नाम मालूम नही, क्योंकि हदीस मे नही आया, ये अपने लकब […]

दज्जाल की हकीकत (फितना ऐ दज्जाल) पार्ट 1

दज्जाल कौन है? दज्जाल कहा है? दज्जाल कब निकलेगा? दज्जाल की दावत, दज्जाली फितने की नौईयत व हकीकत, दज्जाल के पैरोकार, दज्जाली ताकतो का तारूफ, दज्जाल से बचने के लिए रूहानी व तजविराती तदबीर (मुफ्ती अबु लुबाबा शाह मंसूर © www.Ummat-e-Nabi.com) ✦ झूठे दावेदार की तीन निशानीया: अल्लाह के नबी ﷺ फ़रमाते है: ❝ जब से […]

Jhoote Nabion Aur Dajjalon Ka Zahoor ….

♥ Mafhoom-e-Hadees: Abu Huraira (Razi’Allahu Anhu) Farmatey Hai Ke, Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Irshad Farmaya: “Qayamat Iss Waqt Tak Qayem Na Hogi Jab Tak Ke 30 Ke Qareeb Dajjal Aur Jhoote Na Zahir Ho Jayen Jin Me Se Har Ek Rasool Hone Ka Daawa Karega”. – (Sahih Bukhari Kitab-Ul-Munaqib 3609) ♥ Mafhoom-e-Hadees: Jabar (RaziAllahu […]