Browsing tag

बीवी को उस का महर देना

28. रबी उल आखिर | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

(1). मदीना में हुजूर (ﷺ) का इन्तेज़ार, (2). हुजूर (ﷺ) की दुआ की बरकत, (3). बीवी को उस का महर देना, (4). अल्लाह से रेहम तलब करने की दुआ, (5). नमाज के लिये मस्जिद जाना, (6). इस्लाम की दावत को ठुकराना एक बड़ा जुल्म, (7). इन्सान की ख़सलत व मिजाज, (8). जन्नत का खेमा, (9). […]

30. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हजरत सुहेल बिन अम्र (र.अ) हुजूर (ﷺ) का मुअजिजा: एक वसक जौ में बरकत एक फर्ज के बारे में: बीवी को उस का महर देना एक सुन्नत के बारे में: औलाद के फर्माबरदार होने के लिए एक अहेम अमल की फजीलत: पहली सफ की फजीलत एक गुनाह के बारे में: कुरआन का मज़ाक […]