Browsing tag

बलात्कार

और व्यभिचार (adultery) के निकट भी न जाओ।

कल्याणकारी मधुर संदेश इस्लाम समाज में फैली किसी भी बुराई जैसे (चोरी/बलात्कार/शराब…आदि) से न सिर्फ रोकता है बल्कि उसे मिटाने के तरीके भी बताता है। “और ज़िना (व्यभिचार) के निकट भी न जाओ, नि:सन्देह यह बहुत ही घृणित काम और बुरा रास्ता है।” पवित्र कुरआन (17:32) सबसे पहले तो इस्लाम लोगों को आध्यात्मिक स्तर पर […]