NonMuslim Yuwak ne Marwadi me Likhi Paigamber Muhammad (ﷺ) ki Jivani

गैरमुस्लिम युवक ने मारवाड़ी में लिखी पैगम्बर मोहम्मद (स.) की जीवनी

राजस्थान में कोलसिया गांव के एक हिंदू युवक राजीव शर्मा (28) ने धार्मिक सद्भाव की अनूठी मिसाल पेश की है।
राजीव ने बताया कि वे गांव का गुरुकुल नाम से एक ऑनलाइन लाइब्रेरी चलाते हैं। अगर कलम की ताकत का सही इस्तेमाल हो तो उसकी स्याही भाईचारे और मुहब्बत की जड़ों को सींचती है।

किसी भी धर्म का दूसरे से कोई विरोध नहीं है। हिंदू धर्म संपूर्ण विश्व को अपना परिवार मानता है और इस्लाम भाईचारे का पैगाम देता है। इसलिए लोगों में एक दूसरे के प्रति समझ बढऩी चाहिए ताकि नफरत के सौदागर कभी सफल न हो सकें।

राजीव जी ने हाल ही में पैगम्बर मुहम्मद साहब (स.) प् मारवाड़ी में एक किताब लिखी है ! साहित्य की भाषा में इसे जीवनी कहा जा सकता है , लेकिन उनका मानना है की मुहम्मद साहब (स.) का जो स्तर है, उसे किसी भी व्यक्ति के लीए किताब के पन्नो में समेट पाना मुमकिन नहीं | मुहम्मद साहब (स.) के सम्मान में राजीव जी का यह एक छोटा सा प्रयास है|

मोहम्मद साहब (स.) पर पहली ऐसी ईबुक है जो किसी हिन्दू ने मारवाड़ी में लिखी है| साथ ही में वो ये भी कहते है के इससे हम मुहम्मद साहब (स.) के पैगाम को जानने के साथ ही एक-दूसरे को भी अच्छी तरह जान सकेंगे , मुल्क में अमन की फिजा कायम होगी |

राजीव शर्मा जी के इस जस्बे के लिए हमारी तहे दिल से दुआ है के ! अल्लाह तआला राजीव भाई को हिदायत से सरफ़राज़ करे ! उनकी जेद्दो-जेहद को कुबूल फरमाए, और उन्हें दुनिया और अखिरत के तमाम खैर से नवाज़े | …. अमीन …

*Rajeev Sharma has written Prophet Muhammad’s (PBUH) Biography

Complete History of Islam in Hindiinspirational views islam in hindiIslam Dharm ka kya matlab hota hai Hindi meinIslam Dharm ke SansthapakIslam Dharm ki Kahani in HindiIslam Dharm ki UtpattiIslam Dharm Kya haiIslam Duniya me kab aayaIslam kya hai book in hindiIslam kya hai hindi maiIslamic baatein in HindiIslamic Inspirational Quotes HindiIslamic Newsislamic news in hindiNewsNon Muslim Speak about IslamNonMuslim ViewNonMuslim Yuwak ne Marwadi me Likhi Paigamber Muhammad (ﷺ) ki JivaniProphet Mohammed HistoryRajeev Sharma has written Prophet Muhammad's BiographyRajiv Sharma translate quran in marwari
Comments (0)
Add Comment