कसम उस वक़्त की” और ”जब ज़िन्दगी शुरू होगी” सिरीज़ …..

”कसम उस वक़्त की” और ”जब ज़िन्दगी शुरू होगी” के नाम से पोस्ट की पूरी सिरीज़ आप में से अक्सर लोग यहाँ पढ़ चुके हैं.
– एक में नास्तिकों के अक्सर सवालों के जवाब के साथ क़यामत के आने को अकली बुन्यादों से साबित किया गया है,
– तो दूसरी किताब में आखिरत में होने वाले आमाल (कर्म) के हिसाब किताब और हश्र के मैदान का नक्शा एक कहानी के रूप में इस खूबी से खींचा गया है कि वहां पेश आने वाले हालात को आसानी से समझा ही नहीं बल्कि महसूस किया जा सकता है|

*ये पोस्ट जिन लोगों ने नहीं पढ़ी वह अब पढ़ लें.
”कसम उस वक़्त की” के लिए लिंक यह है…
https://goo.gl/zpSHWM

”जब ज़िन्दगी शुरू होगी” के लिए लिंक यह है…
https://goo.gl/WB3wHm

PDF फ़ॉर्मेट इन दोनों किताबों को डाउनलोड करने ले लिए लिंक यह है….
http://www.inzaar.org/
– यह किताबें असल में उर्दू मैं थी और एक आलिम जनाब ”अबू याह्या” साहब ने लिखी थी.
जब मैंने इनको पढ़ा तो मुझे ये इतनी ज्यादा पसंद आई कि मुझे अहसास होने लगा कि जो लोग उर्दू नहीं पढ़ सकते उनको इन किताबों से महरूम रखना एक तरह से उनके साथ नाइंसाफी होगी.
– इस अहसास की वजह से तजुर्बा और भाषा का इल्म (ज्ञान) कम होने के बावजूद मैंने हिन्दी पढ़ने वालों के लिए इन किताबों का अनुवाद करना शुरू कर दिया. उसे जिन लोगों ने भी पढ़ा बहुत पसंद किया और भारी संख्या में मुझे मैसेज मिले जिन में उनकी शदीद ख्वाहिश थी कि मैं इन्हें किताबी शक्ल में प्रिंट करा कर दूँ, ताकि वे अपने घर वालों और अपने मुस्लिम गैर-मुस्लिम दोस्तों वगैरह को भी यह किताबें पढ़ने के लिए दे सकें.
– हालाँकि मेरे पास इसके पूरे वसाइल नहीं थे फिर भी मैंने जनाब अबू याह्या साहब से इस बारे में बात की तो उन्होंने इस शर्त के साथ कि ”मैं इन किताबों को रूपये कमाने का ज़रिया नहीं बनाऊंगा” मुझे इनके प्रकाशन की इजाज़त देदी.

*अब अल्लाह के करम से यह किताबें छप कर आ चुकी हैं.
इन दोनों किताबों को एक सैट के तौर पर हम आप तक डाक के ज़रिये भेजेंगे. उसके लिए आप को करना यह है कि दोनों किताबों के 200+ डाक खर्च 25 रूपये यानि हर एक सैट के लिए कुल 225 रूपये (• नोट- हर एक सैट के लिए साधारण डाक खर्च 25 रूपये है कोई शिकायत आने पर हम इसे स्पीड पोस्ट पार्सल या प्राइवेट कुरियर के ज़रिये भी भेज सकते हैं, उसके लिए डाक खर्च बढ़ जाएगा जिसकी इत्तिला आप को दे दी जाएगी.)
– फिलहाल हर एक सैट के लिए 225 रूपये आप को बैंक अकाउंट या डाक खाने से ई-मनीआर्डर के ज़रिये हम तक भेजने हैं,

*ई-मनीआर्डर जिस नाम और पते के लिए करना है वो है –
Musharraf Ahmad
1022/1, South Khalapar
Muzaffar Nagar (U.P.)
Pin – 251002

*बैंक के ज़रिये अगर आप पैसे भेजना चाहते हैं तो उसके लिए अकाउंट है –
Musharraf Ahmad
Account no.: 6848000100027392
IFSC Code : PUNB0684800
Branch name: VIKASH BHAWAN
Saving Account
PUNJAB NATIONAL BANK

*जब आप यह रूपये भेज चुके हों तो हमें इस के लिए भेजने वाले का नाम और रिसिप्ट नं वगैरह बताना है और अपना ऑर्डर और ऐड्रेस देना है.
मिसाल के लिए अगर आप ने दो सैट के लिए पैसे भेजे हैं तो ऐसे लिखें –
» जितने पैसे भेजे हैं………..
» बैंक से भेजे हैं या ई-मनीआर्डर से………
» भेजने वाले का नाम………….
» रिसिप्ट नं……….
इसके बाद लिखें.
2 सैट (एक चाहिए तो) 1 सैट
जिसको भेजना है उसका नाम:………..(अगर हो तो उर्फ़ भी) S/Oपिता का नाम……..
मकान नं…………….
वार्ड नं…….
गली, मोहल्ला, कॉलोनी, बिल्डिंग वगैरह का नाम………..
आप के घर के पास कोई मशहूर भवन जैसे मस्जिद, मंदिर, स्कूल, कॉलेज या कोई रोड वगैरह में से जो भी हो उसका नाम…….
गाँव या क़स्बा…….
जिला या शहर………
प्रदेश …………
पोस्टल कोड …………
मोबाइल नं…………..
घर का फ़ोन नं……………….

*यह सब और भी कुछ जिससे पोस्ट मैन को आप के पते पर पहुँचने में आसानी हो इंग्लिश में अच्छी तरह सही स्पेलिंग के साथ बहुत ध्यान से लिख कर फ़ोन नं. 08430038611 पर text मैसेज करें (याद रहे text मैसेज ही करना है वाट्सअप मैसेज नहीं करना है.) या m.ahmad900@yahoo.com पर मेल करें या मुझे फेसबुक पर इनबॉक्स मैसेज भी कर सकते हैं.
– इनमे से कोई भी एक ज़रिया ही इस्तिमाल करें ऐसा ना कीजियेगा कि एक ही ऑर्डर के मैसेज आप फ़ोन पर भी करें और मुझे फेसबुक पर इनबॉक्स मैसेज भी करें, नहीं बल्कि इनमे से कोई भी सिर्फ एक ज़रिये से ही मैसेज करें. और एक मैसेज को एक ही बार सैंड करें बार बार ना करें.
– आप के भेजे हुए पैसे हमें मिलने के एक दो दिन बाद हम आप की किताबें डाकघर में पोस्ट कर देंगे और आप को उसी ज़रिये से मैसेज कर देंगे जिस ज़रिये से आप ने किया था. इसके बाद (आम तौर पर) दस से बीस दिन के अन्दर आप तक किताबें पहुँच जाएंगी.
महरबानी करके मैसेज करते हुए पोस्ट में बयान किये गए हर एक बिंदु का ध्यान रखे.
वस्सलाम
– मुशर्रफ अहमद (मुजफ्फरनगर)

Download
Comments (0)
Add Comment


    Related Post


    Laala Kashiram Chawla Speak About Islam

    » NonMuslim View About Islam: लाला काशी राम चावला

    ‘‘...न्याय ईश्वर के सबसे बड़े गुणों में से एक…