Kuffaro ki Mushabiyat me Shirqat | Post 12 | Islam aur Humara Ghar

कुफ्फारों की मुशाबियत में शिरकत » पोस्ट 1⃣2⃣ » इस्लाम और हमारा घर

पोस्ट 1⃣2⃣

“इस्लाम और हमारा घर”

कुफ्फारों की मुशाबियत में शिरकत

अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:
“जो किसी क़ौम से मुशाबहत इख़्तियार करे वो उन्हीं में से है।”

( अबूदाऊद ) रावी: इब्ने उमर
(मोजमुल वसीत: हुज़ैफा रज़िअल्लाहु अ़न्हु)
( स़ही़ह़ अल जामे 6149) (स़ही़ह़)

सिरीज » इस्लाम और हमारा घर

——J,Salafy✒——

▪शेयर करें▪

जिस शख़्स ने किसी नेकी का पता बताया, उसके लिए (भी) नेकी करने वाले के जैसा अजर हैं।
(स़ही़ह़ मुस्लिम: ज़ी. 3, हदीस 4665)

Ahadees in HindiBeautiful Hadees in HindiBest Hadees in HindiBest Islamic Hadees in Hindi LanguageBest Islamic Quotes in HindiJ.Salafyइस्लाम और हमारा घरमुशाबियतहदीस की बातें हिंदी में
Comments (0)
Add Comment


Recent Posts


भूत, प्रेत, बदरूह की हकीकत

क्या इन्सान वाकय में मरने के बाद भुत बन जाता है? अगर नहीं तो भुत प्रेत क्या है? ये इंसानों को क्यों तकलीफ पोहचाते है? इनसे कैसे बचा जाये ? तफ्सीली जानकारी के लिए जरुर इस पोस्ट का मुताला करे और इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करने में हमारी मदद करे ,. जज़ाकअल्लाहु खैरण कसीरा


Dr. Babasaheb Ambedkar about Islam

इस्लाम धर्म सम्पूर्ण एवं सार्वभौमिक धर्म है जो कि अपने सभी अनुयायियों से समानता का व्यवहार करता है