किसी मोमिन (आस्तिक) के लिए ये उचित नहीं कि उसमें लानत करते रहने की आदत हो।

पैग़म्बर मुहम्मद ने फरमाया:

“किसी मोमिन (आस्तिक) के लिए ये उचित नहीं कि उसमें लानत करते रहने की आदत हो।

📕 तिरमिज़ी

Source: islamshantihai.com

Ahadees in HindiAll Hadees in Hindi ImagesBeautiful Hadees in HindiBest Hadees in HindiDaily HadeesFree Islamic Hadees SmsHadees e Nabvi in HindiHadees e Rasool in HindiHadees in HindiHadees Quotes in Hindi


Recent Posts


क्यों हो जाते है लोग इतने बेहरहम ? क्या इन्हें खुदा का खौफ नहीं है ?

? सिरिया में हो रहे क़त्ले आम से हम तमाम के लिए क्या नसीहत वाजेह होती है ? जानने के लिए एक बार इस पोस्ट को जरुर पढ़े और इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करने में हमारी मदद करे ,. जजाकल्लाह खैर,..