जब लोग अल्लाह और उसके रसूल के वादे का लिहाज नहीं करेंगे ….

♥ हदीस: नबी-ऐ-करीम (सलाल्लाहो अलैहि वसल्लम) फरमाते है:
“जब लोग अल्लाह और उसके रसूल के
वादे का पास (लिहाज) नहीं करेंगे ,
तो अल्लाह उनपर बैरुने दुश्मन को तसल्लुद कर देता है,
और वो (बैरुने दुश्मन) इनकी सरवत का एक हिस्सा इनसे छीन लेता है |”
– (सुनन इब्न माजा, हदीस ३२६२)

*आज आलमे इंसानियत का यही हाल है के
नौउज़ुबिल्लाह! हमने अल्लाह और उसके रसूल (सलाल्लाहो अलैहि वसल्लम) की इतनी नाफ़रमानी की है के अल्लाह ने हमपर ऐसे बैरुने दुश्मन को तसल्लुद किया के –
– “कमाते हम है, तेल हम निकालते है लेकिन उसका भाव बैरुने मुल्क में बैठकर कोई और तय करता है,..
– हमारे रुपये (Currency) का भाव वो तय करते है के डोलर के मुकाबले में आज कितना होगा ,..”
*इसीको Capitalism कहते है जिसमे इंसानों पर सीधे हुकूमत नहीकिया जाता लेकिन पूरा Finance अपने कंट्रोल में रखा जाता है|

*तो ये होता है जब ईताअते-रसूल छोड़ दी जाती है तब बैरुने दुश्मन को अल्लाह तसल्लुद कर देता है ….

♥ अल्लाह रहम करे
– अल्लाह हमें गुनाह और मासियत से बचाए !
– हमे किताबो सुन्नत का मुत्तबे बनाये !
– जब तक हमे जिंदा रखे, इस्लाम और ईमान पर जिंदा रखे !
– खात्मा हमारा ईमान पर हो !
!!! व अखिरू दावाना अलाह्म्दुलिल्लाही रब्बिल आलमीन !!!
( अमीन अल्लाहुम आमीन )

Ahadees in HindiAhadit in HindiAll Hadees in Hindi ImagesAllah Ki Nafarmani Ka AzabAzaabBeautiful Hadees in HindiBest Hadees in HindiBest Hadith in Hindi for Whats AppBest Islamic Hadees in HindiBest Islamic Quotes in HindiBest Islamic Status for Whatsapp in HindiBest Muslim Status in Hindicapatilismcapitalismcapitalist countriescapitalist economycapitalist systemcaptalismdefine capitalismdefinition of capitalismGhulamHadees in HindiHadees ki Baatein in HindiIslamic Status in HindiJab Log Allah aur Rasool ki Nafarmani KarengeJab Log Allah ki Nafarmani KarengeJab Log Rasool ki Nafarmani KarengeKitabo Sunnat Ki Nafarmani ka Azabmeaning of capitalismShort Hadees - Islamic Short Messages in Roman Urdu, हिंदी and EnglishSunnat ki Nafarmani Ka Azabwhat is a capitalistwhat is a capitalist systemwhat is capitalist economyZulm
Comments (2)
Add Comment
  • majidalam

    एक मुसलमान बेचारा खुदा की नफरमानी करके हर तरह से मारा जाए।एक मुसलमान कम से कम अपने खुदा को तो मानता ही है लेकिन एक गैर मुस्लिम खुदा को नहीं मानता फिर भी हर तरह से भलाई उसके मुकद्दर है, दुनिया पर राज उसका, पूरी दुनिया में एकता उसकी, वह जब चाहे मुसलमान के साथ कुछ भी कर सकता है और हम मुसलमान….. हालात देखकर ऐसा महसूस होता है जैसे खुदा की कुदरत भी गैर मुस्लिमोें के साथ है और खुदा…

    • Mohammad Salim (Admin)

      उनके पास जो है वो सिर्फ चंदद दिनो के लिए है, आखिरत में उनके लिए सिर्फ और सिर्फ रुसवाई है,
      और दूसरी बात ये के मुसलमानों को अल्लाह ने जिन नेमतो से नवाज़ा वो सबसे अज़ीम है.. सारे नेचुरल रिसोर्से अलाह्म्दुलिल्लाह मुसलमानों के इख़्तियार में दिए है अल्लाह ने ,. तफ्सीली जानकारी के इस पोस्ट का मुताला करे
      http://ummat-e-nabi.com/kyu-hum-par-zalim-hukumra-musallat-hai/


Related Post


इस्लाम क्या सिखाता है ?

इस्लाम की तालीम क्या है ?, इस्लाम का सन्देश, इस्लाम क्या सिखाता है ?, इस्लाम कैसा संसार चाहता है ?,…