घर की निगरानी और बच्चों की सरपरस्ती औ़रतों के ज़िम्मे है।

पोस्ट 37 :
घर की निगरानी और बच्चों की सरपरस्ती औ़रतों के ज़िम्मे है।

अब्दुल्लाह रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि
अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:

“तुम में से हर एक चरवाहा (सरपरस्त, निगरां) है और हर एक से उसके मातेह़तों के बारे में पूछ होगी । लिहाज़ा अमीर जो लोगों पर ज़िम्मेदार होता है, उस से उन के सिलसिले में पूछ होगी। आदमी अपने घर वालों पर निगरां है, उस से उन के सिलसिले में पूछ होगी, औ़रत अपने शोहर के घर और उसकी औलाद पर निगरां है उस से उन के सिलसिले में पूछ होगी। ख़बरदार, तुम में से हर एक निगरां है और हर एक से उसकी ज़िम्मेदारी के बारे में पूछा जाएगा।

📕 बुख़ारी: अल इतक़ 2553,
📕 मुस्लिम: अल इमारा 3408

————-J,Salafy————
इल्म हासिल करना हर एक मुसलमान मर्द-और-औरत पर फर्ज़ हैं
(सुनन्ऩ इब्ने माजा ज़िल्द 1, हदीस 224)

Series : ख़्वातीन ए इस्लाम

J.Salafyबुख़ारीबुखारी शरीफ हदीस हिंदी मेंमुस्लिमसुनन इब्ने माजाहदीस की बातें हिंदी में
Comments (0)
Add Comment


Recent Posts