Gaane aur Mausiqi ki Mumaniat | Post 10 | Islam aur Humara Ghar

गाने और मौसीकी मुमानियत » पोस्ट 1⃣0⃣ » इस्लाम और हमारा घर

पोस्ट 1⃣0⃣

“इस्लाम और हमारा घर”

गाने और मौसीकी मुमानियत

इमरान बिन हुसैन रज़िअल्लाहु अ़न्हु फ़रमाते हैं:
अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:

“इस उम्मत में ज़मीन का धंसना, लोगों के चेहरों का बदलना और पत्थरों की बारिश होने का अ़ज़ाब होगा । मुसलामानों में से एक आदमी ने कहा: ए अल्लाह के रसूल ! वो कब होगा ? आप ﷺ ने फ़रमाया: जब गाने वालिया और गाने बाजे के आलात ज़्यादा हो जाएं और शराब पीना आम हो जाएं।”

( तिर्मिज़ी ) रावी: इमरान बिन हुसैन
( स़ही़ह़ अल जामे 4273 ) ( स़ही़ह़ )

सिरीज » इस्लाम और हमारा घर

——J,Salafy✒——

▪शेयर करें▪

जिस शख़्स ने किसी नेकी का पता बताया, उसके लिए (भी) नेकी करने वाले के जैसा अजर हैं।
(स़ही़ह़ मुस्लिम: ज़ी. 3, हदीस 4665)

Ahadees in HindiBeautiful Hadees in HindiBest Hadees in HindiBest Islamic Hadees in Hindi LanguageBest Islamic Quotes in HindiJ.Salafyइस्लाम और हमारा घरगाने और मौसीकीहदीस की बातें हिंदी में


Recent Posts