फर्ज अमल के बारे में | Ek Farz ke Baare mein

1. मुहर्रमुल हराम

  1. चंद बातों पर ईमान लाना
  2. नमाज़ के लिये पाकी हासिल करना
  3. गुस्ल में पूरे बदन पर पानी बहाना
  4. नमाज़ छोड़ने पर वईद
  5. सुबह की नमाज़ अदा करने पर हिफाज़त का ज़िम्मा
  6. हज की फ़र्जियत
  7. दीन में नमाज़ की अहमियत
  8. गिरवी रखी हुई चीज़ से फ़ायदा न उठाना
  9. पाँचों नमाज अदा करने पर बशारत
  10. पर्दा करना फर्ज है
  11. बीवी की विरासत में शौहर का हिस्सा
  12. नमाज़ी पर जहन्नम की आग हराम है
  13. हज किन लोगों पर फर्ज है
  14. शौहर की विरासत में बीवी का हिस्सा
  15. अल्लाह हर एक को दोबारा जिन्दा करेगा
  16. नमाज़ में किबला की तरफ रुख करना
  17. दीनी इल्म हासिल करना
  18. जमात के साथ नमाज अदा करना
  19. कुरआन मजीद पर ईमान लाना
  20. अपने घर वालों को नमाज़ का हुक्म देना
  21. माँ बाप के साथ अच्छा सुलूक करना
  22. दाढ़ी रखना
  23. इशा की नमाज की अहमियत
  24. गुस्ल के लिए तयम्मुम करना
  25. रुकू व सज्दा अच्छी.तरह करना
  26. तमाम रसूलों पर ईमान लाना
  27. मांगी हुई चीज़ का लौटाना
  28. कज़ा नमाज़ों की अदायगी
  29. दीन में नमाज़ की अहमियत
  30. बाजमात नमाज़ पढ़ने की नियत से मस्जिद जाना

2. सफरुल मुजफ्फर

  1. नमाजें गुनाहों को मिटा देती हैं।
  2. मस्जिद में दाखिल होने के लिए पाक होना
  3. जुमा की नमाज अदा करना
  4. औलाद की मीरास में माँ बाप का हिस्सा
  5. इस्लाम में नमाज़ की अहमियत
  6. अल्लाह ही मदद करने वाले हैं
  7. अजाने जुमा के बाद दुनियावी काम छोड़ देना
  8. जकात की फर्जियत
  9. जमात से नमाज़ न पढ़ने पर वईद
  10. हमेशा सच बोलो
  11. खड़े होकर नमाज़ पढ़ना
  12. नेकियों का हुक्म देना और बुराइयों से रोकना
  13. चंद बातों पर ईमान लाना
  14. पाँचों नमाजों की पाबंदी करना
  15. जानवरों में जकात
  16. अजान सुन कर नमाज को न जाना
  17. नमाज़े जनाजा फर्जे किफाया है
  18. कर्ज अदा करना
  19. वसिय्यत पूरी करना
  20. जमात से नमाज़ पढ़ने की ताकीद
  21. सिला रहमी करना
  22. तक्बीरे तहरीमा
  23. वालिदैन के साथ अच्छा सुलूक करना
  24. जान बूझ कर नमाज क़ज़ा करना
  25. हज किन लोगों पर फर्ज है
  26. औलाद को नमाज़ का हुक्म देना
  27. बे नमाजी का इस्लाम में कोई हिस्सा नहीं
  28. सब से पहले नमाज का हिसाब होगा
  29. बीवी को उस का महर देना
  30. सज्द-ए-सह्य करना

3. रबीउल अव्वल

  1. अस्त्र की नमाज़ की फजीलत
  2. हज की फर्जियत
  3. बगैर वुजू के नमाज़ नहीं होती
  4. बीवी की विरासत में शौहर का हिस्सा
  5. क़ज़ा नमाज़ों की अदाएगी
  6. शौहर की विरासत में बीवी का हिस्सा
  7. हर हाल में नमाज़ पढ़ो
  8. चंद बातों पर ईमान लाना
  9. वालिदैन के साथ एहसान का मामला करना
  10. सज्द-ए-तिलावत अदा करना
  11. बा जमात इशा और फज्र की नमाज़ पढ़ना
  12. पर्दा करना फर्ज है
  13. वरिसिन के दरमियान मीरास तकसीम करना
  14. नमाज के लिये मस्जिद जाना
  15. हलाल पेशा इख्तियार करना
  16. नमाज़ का दर्जा
  17. गुस्ल में पूरे बदन पर पानी बहाना
  18. शौहर का हक़ अदा करना
  19. अजान सुन कर नमाज के लिये न जाना
  20. सुबह की नमाज़ अदा करने पर हिफाज़त का जिम्मा
  21. रुकू सज्दा अच्छी तरह अदा करना
  22. जमात के साथ नमाज़ पढ़ना
  23. वालिदैन के साथ अच्छा बरताव करना
  24. सब से पहले नमाज़ का हिसाब होगा
  25. नमाज छोड़ने पर वईद
  26. माँ के साथ हुस्ने सुलूक करना
  27. नेकियों का हुक्म करना और बुराइयों से रोकना
  28. गुस्ल के लिये तयम्मुम करना
  29. बगैर किसी उज्र के नमाज़ क़ज़ा करना
  30. तर्के जमात का अंजाम

4. रबीउस सामी

  1. जमात से नमाज़ अदा करना
  2. फज्र और अस्र पाबंदी से अदा करना।
  3. जकात अदा करना
  4. फराइज की अदायगी का सवाब
  5. तमाम आमाल का दारोमदार नमाज़ की सेहत पर
  6. पानी न मिलने पर तयम्मुम करना
  7. हज किन लोगों पर फर्ज़ है
  8. नमाज छोड़ने पर वईद
  9. दीनी इल्म हासिल करना जरूरी है
  10. अमानत का वापस करना
  11. नमाजी पर जहन्नम की आग हराम है
  12. विरासत में लड़की का हिस्सा
  13. वुजू में चमड़े के मोज़े पर मसह करना
  14. क़ज़ा नमाज़ों की अदाएगी
  15. सच्ची गवाही देना
  16. वालिदैन के साथ अच्छा सुलूक करना
  17. शौहर के भाइयों से पर्दा करना
  18. मय्यित का कर्ज अदा करना
  19. नमाज़ में इमाम की पैरवी करना
  20. जन्नत में दाखिले के लिये ईमान शर्त है
  21. नमाज़ में खामोश रहना
  22. दीन में नमाज़ की अहमियत
  23. माँगी हुई चीज़ का लौटाना
  24. सज्द-ए-सव अदा करना
  25. सूद से बचना
  26. बीवी की विरासत में शौहर का हिस्सा
  27. नमाज़ों को सही पढ़ने पर माफी का वादा
  28. बीवी को उस का महर देना
  29. रुकू व सज्दा अच्छी तरह न करने पर वईद
  30. वालिदैन के साथ अच्छा सुलूक करना

5. जुमादल ऊला

  1. अल्लाह तआला सब को दोबारा जिन्दा करेगा
  2. नमाज छोड़ने का नुकसान
  3. शौहर के भाइयों से पर्दा करना
  4. नमाज़ के छोड़ने पर वईद
  5. नेकियों का हुक्म देना और बुराइयों से रोकना
  6. हज की फर्जियत
  7. आप (ﷺ) की आखरी वसिय्यत
  8. गुस्ल में पूरे बदन पर पानी बहाना
  9. नमाज़ के लिये मस्जिद जाना
  10. दाढ़ी रखना
  11. अपने घर वालों को नमाज़ का हुक्म देना
  12. कर्ज अदा करना
  13. हजरत मुहम्मद (ﷺ) को आख़री नबी मानना
  14. कज़ा नमाज़ों की अदाएगी
  15. शौहर पर बीवी का खर्चा
  16. मजदूर को पूरी मजदूरी देना
  17. सुबह की नमाज़ अदा करने पर हिफाज़त का ज़िम्मा
  18. विरासत में लड़की का हिस्सा
  19. तक़दीर पर ईमान लाना
  20. जमात के इरादे से मस्जिद जाना
  21. सच्ची गवाही देना
  22. वसिय्यत पूरी करना
  23. बीमार की नमाज
  24. वारिसीन के दर्मियान विरासत तक़सीम करना
  25. खड़े हो कर नमाज़ पढ़ना
  26. अमानत का वापस करना
  27. जुमा की नमाज अदा करना
  28. शौहर की विरासत में बीवी का हिस्सा
  29. वालिदैन के साथ अच्छा बरताव करना
  30. नमाजे जुमा के लिये जमात का होना

6. जुमा दस्सानियह

  1. इस्लाम की बुनियाद
  2. बीवी के साथ अच्छा सुलूक करना
  3. अजाने जुमा के बाद दुनियावी काम छोड़ना
  4. कजा नमाजों की अदायगी
  5. सिला रहमी करना
  6. तक्बीरे तहरीमा
  7. रुकू व सज्दे अच्छी तरह करना
  8. पर्दा करना
  9. जुमा के लिये ख़ुत्बा देना
  10. गुस्ल के लिये तयम्मुम करना
  11. नमाज़ में इमाम की पैरवी करना
  12. हलाल पेशा इख्तियार करना
  13. मय्यित का कर्ज उस के माल से अदा करना
  14. गुस्ल में पूरे बदन पर पानी बहाना
  15. नमाज़ के छोड़ने पर वईद
  16. दीन में नमाज़ की अहमियत
  17. बीवी की विरासत में शौहर का हिस्सा
  18. दीनी इल्म हासिल करना
  19. अपने घर वालों को नमाज का हुक्म देना
  20. इशा की नमाज की अहमियत
  21. तमाम रसूलों पर ईमान लाना
  22. तक्बीरे ऊला के साथ नमाज पढ़ना
  23. मस्जिद में दाखिल होने के लिये पाक होना
  24. औलाद की विरासत में माँ बाप का हिस्सा
  25. जमात से नमाज़ न पढ़ने पर वईद
  26. खड़े होकर नमाज पढ़ना
  27. नेकियों का हुक्म देना और बुराइयों से रोकना
  28. वसिय्यत पूरी करना
  29. वालिदैन के साथ अच्छा सुलूक करना
  30. हज किन लोगों पर फर्ज़ है

7. रजबुल मुज्जब

  1. इस्लाम की बुनियाद
  2. गुस्ल में पूरे बदन पर पानी बहाना
  3. नमाज़ के छोड़ने पर वईद
  4. जकात की फर्जियत
  5. सुबह की नमाज़ अदा करने पर हिफाज़त का जिम्मा
  6. हज की फर्जियत
  7. दीन में नमाज़ की अहमियत
  8. गिरवी रख हुई चीज से फायदा न उठाना
  9. पाँचों नमाजें अदा करने पर बशारत
  10. पर्दा करना फर्ज है
  11. बीवी की विरासत में शौहर का हिस्सा
  12. नमाज़ी पर जहन्नम की आग हराम है
  13. हज किन लोगों पर फर्ज है
  14. शौहर की विरासत में बीवी का हिस्सा
  15. नमाज़े अस्र की अहमियत
  16. नमाज में किबला की तरफ रुख करना
  17. दीनी इल्म हासिल करना
  18. जमात के साथ नमाज अदा करना
  19. कुरआन मजीद पर ईमान लाना
  20. अपने घर वालों को नमाज का हुक्म देना
  21. माँ बाप के साथ अच्छा सुलूक करना
  22. दाढ़ी रखना
  23. इशा की नमाज की अहेमियत
  24. गुस्ल के लिए तयम्मुम करना
  25. रुकू व सजदा अच्छी तरह करना
  26. तमाम रसूलों पर ईमान लाना
  27. मांगी हुई चीज़ का लौटाना
  28. तक्बीरे ऊला के साथ नमाज़ पढ़ना
  29. अल्लाह के नजदीक पसंदीदा अमल
  30. बा वुजू मस्जिद जाना

8. शाबानुल मुअज्जम

  1. सिर्फ अल्लाह की इबादत करो
  2. मस्जिद में दाखिल होने के लिए पाक होना
  3. जुमा की नमाज अदा करना
  4. औलाद की विरासत में माँ बाप का हिस्सा
  5. इस्लाम में नमाज़ की अहमियत
  6. अल्लाह ही मदद करने वाले हैं
  7. अज़ाने जुमा के बाद दुनियावी काम छोड़ देना
  8. जकात की फर्जियत
  9. जमात से नमाज़ न पढ़ना
  10. हमेशा सच बोलो
  11. खडे हो कर नमाज़ पढ़ना
  12. नेकियों का हुक्म देना और बुराइयों से रोकना
  13. चंद बातों पर ईमान लाना
  14. पाँचों नमाज़ों की पाबंदी करना
  15. जानवरों पर जकात
  16. अजान सुन कर नमाज को न जाने पर वईद
  17. नमाज़े जनाजा फर्जे किफाया है
  18. कर्ज अदा करना
  19. वसिय्यत पूरी करना
  20. जमात के साथ नमाज पढ़ना
  21. सिला रहमी करना
  22. तक्बीरे तहरीमा
  23. वालिदैन के साथ अच्छा सुलूक करना
  24. जानबुझकर नमाज कजा कर देना
  25. हज किन लोगों पर फर्ज है
  26. रोजे की फर्जियत
  27. बेनमाज़ी का इस्लाम में कोई हिस्सा नहीं
  28. हर मुसलमान पर रोजा रखना फर्ज है
  29. बीवी को उस का महर देना
  30. सजद-ए-सह्व करना

9. रमजानुल मुबारक

  1. इस्लाम की बुनियाद
  2. नमाज़ व रोज़ा पिछले गुनाहों का कफ्फारा है
  3. बा जमात इशा और फज़्र की नमाज़ पढ़ना
  4. रोजे की फर्जियत
  5. बगैर वुजू के नमाज़ नहीं होती
  6. वारिसीन के दर्मियान मीरास तकसीम करना
  7. कज़ा नमाजों की अदायगी
  8. हलाल पेशा इख्तियार करना
  9. रोजे के फराइज़
  10. नमाज़ का दर्जा
  11. बीमारी या सफर की हालत के रोजे
  12. अजान सुन कर नमाज के लिए न जाना
  13. जकात मुस्तहिक को देना ज़रूरी है
  14. सुबह की नमाज अदा करने पर हिफाज़त का जिम्मा
  15. रोज़े का कफ्फारा अदा करना
  16. जमात की पाबंदी न करने पर वईद
  17. औरतों पर भी ज़कात देना फर्ज है
  18. जमात छोड़ने पर वईद
  19. वालिदैन के साथ अच्छा बर्ताव करना
  20. सब से पहले नमाज़ का हिसाब होगा
  21. औरतों पर रोजों की कजा करना
  22. नमाज़ छोड़ने वाला कुफ्र के करीब हो जाता है
  23. जमीन की पैदावार में जकात
  24. रुकू व सज्दा अच्छी तरह न करने पर वईद
  25. हज की फर्जियत
  26. बीमार की नमाज़
  27. सदक-ए-फित्र
  28. बगैर किसी उज्र के नमाज़ कजा करना
  29. सदक-ए-फित्र किस पर वाजिब है
  30. कज़ा नमाजों की अदायगी

10. शव्वालुल मुकर्रम

  1. अल्लाह तआला पूरी कायनात का रब है
  2. नमाज़ों का सही होना जरुरी है
  3. पानी न मिलने पर तयम्मुम करना
  4. हज किन लोगों पर फर्ज है
  5. नमाज़ छोड़ने पर वईद
  6. इल्म हासिल करना जरूरी है
  7. अमानत का वापस करना
  8. तकबीर उला से नमाज पढ़ना
  9. विरासत में लड़की का हिस्सा
  10. वजू में चमड़े के मौजों पर मसह करना
  11. कजा नमाज़ों की अदायगी
  12. सच्ची गवाही देना
  13. वालिदैन के साथ अच्छा सुलूक करना
  14. जमात से नमाज पढ़ना
  15. शौहर के भाइयों से पर्दा करना
  16. मस्जिद में नमाज अदा करना
  17. मय्यित का कर्ज अदा करना
  18. सामान का ऐब ज़ाहिर करना
  19. नमाज में इमाम की पैरवी करना
  20. जन्नत में दाखले के लिए ईमान शर्त है
  21. नमाज़ में खामोश रहना
  22. हमेशा सच बोलो
  23. दीन में नमाज़ की अहमियत
  24. गिरवी रखी हुई चीज़ से फायदा न उठाना
  25. सजद-ए-तिलावत अदा करना
  26. सूद से बचना
  27. बीवी की विरासत में शौहर का हिस्सा
  28. नमाजों को सही पढ़ने पर माफी का वादा
  29. दीन में पैदा की हुई नई बातों से बचना
  30. बीवी को उस का महर देना

11. जिल कादा

  1. इस्लाम की बुनियाद
  2. सफा और मरवह की सई करना
  3. मीक़ात से एहराम बांध कर गुजरना
  4. बीवी के साथ अच्छा सुलूक करना
  5. सई को तवाफ के बाद करना
  6. अजाने जुमा के बाद दुन्यावी काम छोड़ना
  7. हज के महीने में एहराम बांधना
  8. अरफात में वुकूफ करना
  9. तवाफे जियारत करना
  10. क़ज़ा नमाज़ों की अदायगी
  11. मुजदलफ़ा में वुकूफ़ करना
  12. सिला रहमी करना
  13. औरतों को एहराम खोलने के लिए बाल कटाना
  14. तकबीरे तहरीमा
  15. तवाफ में सात चक्कर लगाना
  16. हाजी पर कुर्बानी करना
  17. जमरात की रमी करना
  18. रुकू व सज्दा अच्छी तरह करना
  19. कुर्बानी के जानवरों का ऐब से पाक होना
  20. पर्दा करना
  21. बा वुजू तवाफ करना
  22. जुमा के लिए खुत्बा देना
  23. गुस्ल के लिए तयम्मुम करना
  24. हतीम के बाहर तवाफ करना
  25. कुर्बानी करना
  26. वतन लौटते वक्त तवाफ करना
  27. नमाज़ में इमाम की पैरवी करना
  28. हलाल पेशा इख्तियार करना
  29. अमीर की फर्माबरदारी करना
  30. मय्यित का कर्ज उस के माल से अदा करना

12. जिलहिज्जा

  1. अल्लाह तआला सब को दोबारा जिन्दा करेगा
  2. नमाज़ छोड़ने का नुक्सान
  3. शौहर के भाइयों से पर्दा करना
  4. नमाज़े अस्र की अहेमियत
  5. नेकियों का हुक्म देना और बुराइयों से रोकना
  6. हज की फर्जियत
  7. आप की आखरी वसिय्यत
  8. तकबीराते तशरीक
  9. नमाज़ के लिए मस्जिद जाना
  10. दाढ़ी रखना
  11. अपने घर वालों को नमाज़ का हुक्म देना
  12. कर्ज अदा करना
  13. हजरत मुहम्मद को आखरी नबी मानना
  14. कज़ा नमाजों की अदायगी
  15. शौहर पर बीवी का खर्चा
  16. मजदूर को पूरी मजदूरी देना
  17. सुबह की नमाज अदा करने पर हिफाज़त का जिम्मा
  18. विरासत में लड़की का हिस्सा
  19. तक्दीर पर ईमान लाना
  20. जमात के इरादे से मस्जिद जाना
  21. सच्ची गवाही देना
  22. वसिय्यत पूरी करना
  23. बीमार की नमाज
  24. वारिसीन के दर्मियान विरासत तक़सीम करना
  25. खड़े हो कर नमाज पढ़ना
  26. अमानत का वापस करना
  27. जुमा की नमाज अदा करना
  28. शौहर की विरासत में बीवी का हिस्सा
  29. वालिदैन के साथ अच्छा बर्ताव करना
  30. नमाजे जुमा के लिए जमात का होना
AmalFarz


Recent Posts