Browsing category

ख्वातीन-ए-इस्लाम

बेहतरीन बीवी कौन ?

पोस्ट 06: बेहतरीन बीवी कौन ? “अब्दुल्लाह बिन सलाम रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि” “अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:” ❝ सब से बेहतरीन औ़रत (बीवी) वो है कि जब तू उसे देखे तो वो तुझे ख़ुश करे, और जब तू उसे कोई हुक्म दे तो तेरी फ़रमांबरदारी करे, और तेरी गै़र मौजूदगी में […]

किस औ़रत से निकाह़ बेहतर है ?

पोस्ट 05: किस औ़रत से निकाह़ बेहतर है ? “अबू हुरैराह रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि” “अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:” ❝औ़रत से चार चीज़ों की बुनियाद पर निकाह़ किया जाता है । उसके माल, उसके ख़ानदान, उसकी खूबसूरती और उसके दीन की बुनियाद पर । लिहाज़ा तू दीनदार को अपने लिए इख़्तियार […]

बेहतरीन औ़रत और बद्तरीन औ़रत

पोस्ट 04: बेहतरीन औ़रत और बद्तरीन औ़रत अबू उज़ैना सदफ़ी रज़िअल्लाह अ़न्हु रिवायत है कि अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: तुम्हारी औ़रतों में बेहतरीन औ़रत वो हैं जो निहायत मुहब्बत करने वाली, खूब औलाद वाली, शोहर की मुवाफ़िक़त करने वाली और ताउन करने वाली हैं बशर्त़ कि अल्लाह से डरने वाली हो। और तुम्हारी […]

नेक औ़रत बेहतरीन मताअ़् है…

पोस्ट 03: नेक औ़रत बेहतरीन मताअ़् है अब्दुल्लाह बिन अ़म्र से रिवायत है कि अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: “दुनिया मताअ़् है, और दुनिया की बेहतरीन पूंजी नेक औ़रत है।” (मुस्लिम: अर् रिज़ाअ़ 6228) रावी इब्ने अ़म्र ————-J,Salafy———— इल्म हासिल करना हर एक मुसलमान मर्द-और-औरत पर फर्ज़ हैं (सुनन्ऩ इब्ने माजा ज़िल्द 1, हदीस […]

मां बेहतरीन सुलुक की ह़क़दार है…

पोस्ट 02: मां बेहतरीन सुलुक की ह़क़दार है अबू हुरैराह रजिअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है फ़रमाते हैं: एक शख़्स़ अल्लाह के रसूल ﷺ के पास आया और कहा: ऐ अल्लाह के रसूल, मेरे अच्छे सुलूक का सबसे ज़ियादा ह़क़दार कौन है ? आप ﷺ ने फ़रमाया: तेरी वालिदा । उसने फिर पूछा: उसके बाद कौन […]

अल्लाह की रह़मत समझाने के लिए मां की रह़मत की त़रफ़ इशारा करना

पोस्ट 01: अल्लाह की रह़मत समझाने के लिए मां की रह़मत की त़रफ़ इशारा करना उमर बिन ख़त्ताब रजिअल्लाहु अ़न्हु फ़रमाते हैं कि वो अल्लाह के नबी ﷺ के पास कुछ क़ैदी ले कर आए । उन कैदियों में एक औ़रत भी थी जो (अपने) बच्चे को तलाश कर रही थी । जब उसे कोई […]

तलाक, हलाला और खुला की हकीकत (Talaq, Halala aur Khula Ki Hakikat)

• तलाक की हकीकत: यूं तो तलाक़ कोई अच्छी चीज़ नहीं है और सभी लोग इसको ना पसंद करते हैं इस्लाम में भी यह एक बुरी बात समझी जाती है लेकिन इसका मतलब यह हरगिज़ नहीं कि तलाक़ का हक ही इंसानों से छीन लिया जाए, पति पत्नी में अगर किसी तरह भी निबाह नहीं […]