बीवियों में अ़दल की अहमियत

पोस्ट 13 :
बीवियों में अ़दल की अहमियत

अबू हुरैराह रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि,
अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:

जब किसी शख़्स़ की दो बीवियां हो, और वो उन के दरमियान अ़दल ना करे तो क़ियामत के दिन वो इस हाल में आएगा कि उस का एक पहलू साक़ित (paralysed)  होगा।

📕 तिर्मिज़ी, हाकिम
📕 स़ही़ह़ अल जामे 761

————-J,Salafy————
इल्म हासिल करना हर एक मुसलमान मर्द-और-औरत पर फर्ज़ हैं
(सुनन्ऩ इब्ने माजा ज़िल्द 1, हदीस 224)

 

J.Salafyत़बरानीतिर्मिज़ीबैहकी हदीसमुस्लिमसहीह अल जामेसिलसिला अस्सहीहासुनन इब्ने माजाहदीस की बातें हिंदी मेंहाकिम


Recent Posts