बेटियों की परवरिश का अज्र।

पोस्ट 40 :
बेटियों की परवरिश का अज्र।

उक्बा बिन आ़मिर रज़िअल्लाहु अ़न्हु फ़रमाते हैं कि मैं ने अल्लाह के रसूल ﷺ को यूं फ़रमाते सुना:

जिस की तीन बेटियां हो, और वो उन पर स़ब्र करे और अपनी ताक़त के बक़द्र उन्हें खिलाए पिलाए और पहनाए तो ये बेटियां कियामत के दिन उस के लिए जहन्ऩम की आग से बचाव का ज़रिया बनेंगी।

📕 मुस्नद अहमद, इब्ने माजा
📕  स़ही़ह़ अल जामे 6488-स़ही़ह़

————-J,Salafy————
इल्म हासिल करना हर एक मुसलमान मर्द-और-औरत पर फर्ज़ हैं
(सुनन्ऩ इब्ने माजा ज़िल्द 1, हदीस 224)

Series : ख़्वातीन ए इस्लाम

J.Salafyमुस्नद अहमदसहीह अल जामेसुनन इब्ने माजाहदीस की बातें हिंदी में
Comments (0)
Add Comment


Recent Posts


इस्लाम विरोधी पुस्तक लिखने के बाद डच राजनेता अब खुद बन गए मुस्लिम

मुस्लिम-विरोधी स्वतंत्रता पार्टी के डच राजनेता ने सोमवार 04/02/2019 को घोषणा की कि उन्होंने इस्लाम धर्म अपना लिया है। ..