आपस में दुश्मनी रखने का गुनाह

रसलल्लाह (ﷺ) ने फरमाया :

“हर पीर व जुमेरात को (अल्लाह की बारगाह में) आमाल पेश किए जाते है,
अल्लाह तआला उन दिनों में हर ऐसे आदमी की मगफिरत
फर्मा देता है जो अल्लाह के साथ किसी को शरीक नहीं करता मगर
( उन दो आदमियों की मगफिरत नहीं करता ) जिन के दर्मियान दुश्मनी हो

अल्लाह तआला फर्माता है जब तक यह दोनों
सुलह व सफाई न कर लें उन को उसी हाल पर छोड़े रखो।”

📕 मुस्लिम: ६५४६

Related Posts:

Trending Post

Leave a Reply

Ummate Nabi Android Mobile App