Kya Shabe Barat Sahih Hadees se Sabit hai

Shab e Barat : क्या सहीह हदीसों में शबे बराअत का ज़िक्र आया है?

हमारे प्यारे नबी(ﷺ) की किसी एक भी सहीह हदीष में शबे बराअत का ज़िक्र नहीं आया, जिन रिवायतों में शबे बराअत का ज़िक्र है उनमें कुछ तो सख्त ज़ईफ और ज्यादातर मौज़ूअ है। यहाँ पर कुछ ऐसी रिवायतों का तहक़ीक़ी जायज़ा लेंगे

वसीयत जरूर लिखे

रसूलल्लाह (सलाल्लाहू अलैही वसल्लम) ने इरशाद फ़रमाया: “किसी मुसलमान के पास कोई भी चीज़ हो(यानीकिसी का लेना-देना या उस के

Momin aur Badkaar ki Misaal

[bs-heading title=”Roman Urdu” show_title=”1″ title_link=”#RomanUrdu” heading_color=”#ef4e56″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading] ۞ Hadees: Ka’ab (RaziAllahu Anhu) se riwayat hai ke Rasool’Allah (ﷺ)

Bulandi par chadte waqt Allahu Akbar kaho aur utarte waqt SubhanAllah

۞ Bismillah-Hirrahman-Nirrahim ۞ [bs-heading title=”Roman Urdu” show_title=”1″ title_link=”#RomanUrdu” heading_color=”#ef4e56″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading] ۞ Hadees: Jabir bin Abdullah (RaziAllahu Anhu) se

Apne Mehman ki Izzat kare

♥ Mafhoom-e-Hadees: RasoolAllah (Sallallahu Alaihi Wasallam) ne farmaya: “Jo shakhs Allah aur Aakhirat ke din par yaqeen rakhta ho usko apne

मन्नत (Mannat/Wish/Votive) की हकीकत ….

♥ मेह्फुम-ए-हदीस: हजरते अनस और अबू हुरैरा (रजिअल्लाहु अन्हु) से रिवायत है की, रसूलअल्लाह (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) ने एक बूढ़े

--> Ummate Nabi Android Mobile App