25. शव्वाल | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

(1). हजरत रुकय्या बिन्ते रसूलुल्लाह (र.अ), (2). अल्लाह का बा बरकत निजाम, (3). सजद-ए-तिलावत अदा करना, (4). बीमारों की इयादत करना, (5). किसी की बात को छुप कर सुनना, (6). दुनिया से बेरग़वती का इनाम, (7). जन्नतियों का लिबास, (8). हर बीमारी का इलाज, (9). सच्चे लोगों के साथ रहो।

Sirf Paanch Minute ka Madrasa in Hindi

Sirf 5 Minute Ka Madarsa (Hindi Book)

₹359 Only

1. इस्लामी तारीख

2. अल्लाह की कुदरत

3. एक फर्ज के बारे में

4. एक सुन्नत के बारे में

बीमारों की इयादत करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) बीमारों की इयादत करते और जनाजे में शरीक होते और गुलामों की दावत कबूल फरमाते थे।

📕 मुस्तदरक लिल हाकिम: ३७३४


5. एक गुनाह के बारे में

6. दुनिया के बारे में

दुनिया से बेरग़वती का इनाम

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया:

“जो शख्स जन्नत का ख्वाहिश मन्द होगा वह भलाई में जल्दी करेगा। और जो शख्स जहन्नम से खौफ करेगा, वह ख्वाहिशात से गाफिल (बेपरवाह) हो जाएगा और जो मौत का इंतज़ार करेगा उसपर लज्जतें बेकार हो जाएगी और जो शख्स दुनिया में जुद (दुनिया से बेरगबती) इख्तियार करेगा, उस पर मुसीबतें आसान हो जाएँगी।”

📕 शोअबुल ईमान: १०२१९


7. आख़िरत के बारे में

जन्नतियों का लिबास

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है:

“उन जन्नतियों के बदन पर बारीक और मोटे रेशम के कपड़े होंगे और उनको चाँदी के कंगन पहनाए जाएँगे और उनका रब उनको पाकीज़ा शराब पिलाएगा। (अहले जन्नत से कहा जाएगा के) यह सब नेअमतें तुम्हारे आमाल का बदला हैं और तुम्हारी दुनियावी कोशिश कबूल हो गई।”

📕 सूरह दहर : २१ ता २२


8. तिब्बे नबवी से इलाज

9. क़ुरान की नसीहत

Share on:

Related Posts:

Trending Post

Leave a Reply

close
Ummate Nabi Android Mobile App