सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा

1 Rabi-ul-Awal | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

1 Rabi-ul-Awal | Sirf Panch Minute ka Madarsa

1. इस्लामी तारीख

हज़रत ज़करिया (अ.स)

हज़रत ज़करिया (अ.स) अल्लाह तआला के मुन्तखब करदा नबी और बनी इस्राईल के रहनुमा थे। उन्होंने हज़रत ईसा (अ.स) का ज़माना पाया था। तमाम अम्बियाए किराम का दस्तूर था वह अपने हाथ की कमाई से गुज़र बसर किया करते थे। 

हज़रत ज़करिया (अ.स) ने भी अपने गुज़ारे के लिए नज्जारी (सुतारी.बढ़ई) का पेशा इख़्तियार कर रखा था। उन्होंने ही हज़रत ईसा (अ.स) की वालिद-ए. मोहतरमा हज़रत मरयम की कफालत व तरबियत फ़रमाई थी। हज़रत ज़करिया (अ.स) बूढ़े हो गए थे, लेकिन उन्हें कोई औलाद नहीं थी और उन के खान्दान में कोई शख्स उन के बाद बनी इस्राईल की रूश्दव हिदायत की ख़िदमत अन्जाम देने वाला नहीं था, इस लिये उन्हें हमेशा यह फिक्र रहती थी के मेरे बाद यह काम कौन करेगा, एक मर्तबा हज़रत मरयम के पास बेमौसम के फल देख कर पूछा के मरयम ! यह कहाँ से आए? तो उन्होंने कहा के यह अल्लाह तआला की तरफ से है।

हज़रत ज़करिया (अ.स) ने कहा के जो खुदा बेमौसम के फल देने पर क़ादिर है, तो वह बुढ़ापे में औलाद भी दे सकता है।

चुनान्चे उन्होंने अल्लाह तआला से एक नेक सालेह औलाद माँगी, अल्लाह तआला ने उन की दुआ क़ुबूल फ़रमाई और बड़ी उम्र में हज़रत याह्या (अ.स) जैसा बेटा अता फ़रमाया।

📕 इस्लामी तारीख


2. अल्लाह की कुदरत

कोसे कज़ह (Rainbow)

बारिश के मौसम में जब हल्की धूप में बारिश होती है तो आसमान पर एक जानिब से दूसरी जानिब सात रंगों वाली क़ौसे कज़ह (कमान) ज़ाहिर होती है।

कमान के यह मुख्तलिफ रंग आसमान के हुस्न व खूबसूरती में इज़ाफ़ा कर देते हैं, जिसको देख कर इन्सान सोचने पर मजबूर हो जाता है के आखिर आसमान की इस बुलन्दी पर किसी पेन्टिंग के बगैर चन्द मिनटों में इतनी बड़ी, खूबसूरत और हसीन क़ौसे क़ज़ह किसने बनाई।

बेशक यह अल्लाह ही की ज़ात है जो अपनी मर्ज़ी के मुताबिक़ कुदरत का इज़हार फरमाती  है।

📕 अल्लाह की कुदरत


3. एक फर्ज के बारे में

अस्र की नमाज़ की फज़ीलत

एक मर्तबा रसूलुल्लाह (ﷺ) ने अस्र की नमाज़ पढ़ाई और फिर लोगों की तरफ मुतवज्जेह हो कर फ़रमाया -

"यह नमाज़ तुमसे पहले वाले लोगों पर भी फ़र्ज़ की गई थी, मगर उन्होंने इस को ज़ाय कर दिया, लिहाज़ा सुनो! जो इसको पाबन्दी से पढ़ता रहेगा उसको दोहरा सवाब मिलेगा।"

📕 मुस्लिमः१९२७


4. एक सुन्नत के बारे में

मेहमान का अच्छे अलफाज़ से इस्तिकबाल करना

हज़रत इब्ने अब्बास फ़रमाते हैं के,

जब रसूलुल्लाह (ﷺ) की ख़िदमत में क़बील-ए-बनू अबदुल कैस के लोग आए,
तो रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया "खुशामदीद" (यानी आपका आना मुबारक हो।)

📕 बुखारी: ५३

फायदा: जब कोई मेहमान आए, तो खुशामदीद, मरहबाया इस तरह के अल्फ़ाज़ कहना सुन्नत है।


5. एक अहेम अमल की फजीलत

पड़ोसी के साथ अच्छा सुलूक करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया :

"अल्लाह के नज़दीक बेहतरीन साथी (दोस्त) वह है, जो अपने साथी के लिये बेहतर हो और अल्लाह के नज़दीक बेहतरीन पड़ोसी वह है जो अपने पड़ोसी के हक़ में अच्छा हो।"

📕 तिर्मिज़ी : १९४४


6. एक गुनाह के बारे में

रसूलल्लाह (ﷺ) की नाफ़रमानी करने का गुनाह

रसूलल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया :

"मेरे सब उम्मती जन्नत में जाएंगे मगर जिसने इन्कार कर दिया (वह जन्नत में दाखिल न होगा। ) अर्ज़ किया गया : या रसूलल्लाह (ﷺ) इन्कार कौन करेगा? फ़रमाया : जिसने मेरी इताअत की जन्नत में दाखिल हो गया और जिसने मेरी फ़रमानी की तो उसने इन्कार किया।"

📕 बुखारी : ७२८० अन अबी हुरैरह (र.अ)


7. दुनिया के बारे में

माल के मुताल्लिक़ फ़रिश्तों का एलान

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : 

"हर रोज़ जब अल्लाह के बन्दे सुबह को उठते हैं, दो फरिश्ते नाज़िल होते हैं उनमें से एक कहता है।
ऐ अल्लाह! (अच्छे कामों में) खर्च करने वाले को मज़ीद अता फ़रमा और दूसरा कहता है ऐ अल्लाह ! माल को (अच्छे कामों में खर्च करने के बजाए) रोक कर रखने वाले का माल ज़ाये फ़रमा।"

📕 बुखारी : १४४२, अन अबी हुरैरह (र.अ)


8. आख़िरत के बारे में

रोज़े आख़िरत (क़यामत के दिन) हर अमल का बदला मिल जायेगा

क़ुरआन में अल्लाह तआला फ़रमाता है :

"जो शख्स क़यामत के दिन नेकी लेकर हाज़िर होगा, तो उस को उस नेकी से बेहतर बदला मिलेगा और जो शख़्स बदी ले कर हाज़िर होगा, तो ऐसे बुरे आमाल वालों को सिर्फ उनके कामों की सज़ा दी जाएगी।" 

📕 सूरह क़सस: 84


9. तिब्बे नबवी से इलाज

हर मर्ज़ का इलाज मौजूद है

हज़रत उसामा (र.अ) बयान करते है के, मैं हुज़ूर (ﷺ) की ख़िदमत में मौजूद था के,

कुछ देहात के रहने वाले आए और आप (ﷺ) से अर्ज़ किया : या रसूलल्लाह ! क्या हम दवा करें? तो रसूलुल्लाह ने फ़रमाया: ”अल्लाह के बन्दो! ज़रूर दवा किया करो: इसलिये के कोई बीमारी ऐसी नहीं है जिसकी दवा अल्लाह ने न पैदा की हो, सिवाए एक बीमारी के और वह बुढ़ापा है।

📕 मुस्नदे अहमद: 17986 


10. क़ुरान की नसीहत

अल्लाह और उसके बन्दों के हुकूक अदा करो

क़ुरान में अल्लाह तआला फर्माता है--

"अल्लाह के सिवा किसी की इबादत न करो, वालिदेन के साथ अच्छा सुलूक करो, रिश्तेदारों, यतीमों और मिसकीनों के साथ भी अच्छा बर्ताव करो, लोगों से ख़ुश अख्लाक़ी से बात करो, नमाज़ क़ायम करो और ज़कात अदा करो।"

📕 सूरह बकरा: 83  

इंशा अल्लाहुल अजीज़ ! पांच मिनिट मदरसा सीरीज की अगली पोस्ट कल सुबह ८ बजे होगी।

Share

Related Posts:

Website Design & Developed by:
Mohammad Salim