Al-Quran-30-22

Zubaan (Languages) Ka Ikhtelaaf Allah Ki Nishani ….

Aaj Zubaan(Languages) Ke Naam Par Kya Kuch Fitney Nahi Hotey Ye Aap Sabhi Jantey Ho ,..

*Mulk Todey Jaate Hai Zubaan Ke Naam Par ,.
*Falah Zubaan Bolney Wale Unchey Aur Falah Wale Niche ,..
*Riyasate Baati Jaati Hai Zubaan Ke Naam Par ,.
*Log Ikhtelaaf Karte Hai Ek-Dusre Se Zaban Ke Naam Par ..

Tou Aayiye Dekhte Hai Ke Iska Ikhtelaaf Shairyat Ne Kaise Mitaya ,.
Ke Jab Islam Aalami Aman Ki Baat Karta Hai Tou Dekhiye Allah Rabbul Izzat Zubaan Ke Talluk Se Kya Farmata Hai ?
♥ Al-Quran: “Wa Min Aayaatihee Khalqus Samaawaati Wal Aardi Wakhtilaafu Alsinatikum Wa Alwaanikum; Inna Fee Zaalika La Aayaatil Lil’aalimeen”.. – [Surah(30) Room: Ayat-22] – @[156344474474186:]
(# Tarjuma: Ke Allah Rabbul Izzat Ke Aayto Aur Nishaniyon Me Se Hai Ke Usney Aasman Aur Zameen Ko Paida Kiya .. Aur Tumhari Zubaano Aur Rangat Ka Ikhtelaf Bhi Allah Ki Nishani Hai ..)

*Kyunki Ye Zubaan Bhi Ek Tassuf Ki Buniyad Banti Hai.. Aur Aaj Yahi Muamla Hai Musalmano Ka,
*Musalman Bhi Aapas Me Tassuf Karta Hai Zubaan Ki Buniyad Par !
Ke Wo Falah Zubaan Ke Bolney Waley Hai Aur Hum Falah Zubaan Waley ,..

#Subhan’Allah!!! Hume Batayiye Kya Humare Deen Aur Shariyat Ne Zubaan Ka Tassuf Diya Hume ? ,..
*Kya Kisi Riwayat Me Aata Hai Ke Falah Zubaan Islami Zubaan Hai Aur Falah Zubaan Islami Nahi Hai ? ,..
*Kya Kisi BhI Qoul me Humne Padha Ki Falah Zubaan Ameero Ki Aur Falah Gareebo Ki ?,…

Allah Reham Karey!!! Ke Zubaano Ka Ikhelaaf Iss Hadd Tak Pohoch Gaya Ke Kuch Log Kuch Cheezo Ki Taalim Hasil Nahi Karte Isiliye Ke Wo Zubaan Falah Logon Ki Hai ,..
*Wo Zubaan Yahudiyon Ki Hai.,.. Wo Zubaan Nasraniyo Ki Hai ,..

* Lekin Sawaal Tou Yeh Hai Ke: Rab Farmata Hai Ke Tumhari Zubaano Ka Ikhtelaf Ye Tou Meri Nishani Hai!!
Fir Kyun Kar Humne Iss Muamlo Me Ikhlafat Karte Rehte Hai.?

*Koi Hindi Bolta Hai, Koi Marathi,. Koi Urdu, Arabi, Telgu, Malyalam, Spanish, Japani,…
Aur Na Jaane Kitne-Kitne Zubaane Tum Boltey Ho ,.
Ek-Ek Lafz Ko Kitne-Kitne Namo Se Pukarte Ho!!!
Yeh Bhi Allah Ki Nishani Hai,.
Wo Rab Hai Jisne Humare Jehno Me Yeh Baatey Daali Aur Humari Zubaano Ko Paida Kiya ,..

Afsos Ke Humne Iss Ikhtelaaf Ko Tassuf Ka Mouju Bana Diya,..
Jabki Yeh Ikhtelaaf Ki Cheez Nahi Hai,. Balki Har Zubaan (Languages) Allah Ki Taraf Se Hai!
Lihjaa Hume Chahiye Ke Iss Tassuf Se Bachey Kyunki Alami Aman Ke Khilaf Zubaan Ka Tassuf Yeh Bohot Badi Vajah Banti Hai ..

# Inshaallah-Ul-Azeez !! Allah Ta’ala Hume Parhne Sun’ne Se Jyada Amal Ki Taufiq Dey…
# Jab Tak Hume Zinda Rakhey Islam Aur Imaan Par Zinda Rakhye…
# Khatma Humara Imaan Par Ho …
!!! Wa Akhiru Dawana Anilhamdulillahe Rabbil A’lameen !!!
<हिंदी>☆ ज़ुबान (Languages) का इख्तिलाफ अल्लाह की निशानी
आज ज़ुबान (Languages) के नाम पर क्या कुछ फित्ने नहीं होते ये आप सभी जानते हो ?
मुल्क तोड़े जाते है ज़ुबान के नाम पर ,.. फलाह ज़ुबान बोलने वाले ऊँचे और फलाह वाले नीचे ,.. रियासते बाटी जाती है ज़ुबान के नाम पर ,..
लोग इख्तिलाफ करते है एक दूसरे से ज़ुबान के नाम पर ,..

तो आईये देखते है की इसका इख्तिलाफ शरीयत ने कैसे मिटाया ,.
की जब इस्लाम आलमी अमान की बात करता है तो देखिये अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ज़ुबान के ताल्लुक से क्या फ़रमाता है?
♥ अल-क़ुरान: “वा मिन आयातीही ख़लक़ुस समावाती वाल अर्दी वख्तिलाफु अल्सिनातिकुम व अल्वानिकुम इन्ना फी ज़ालिका ल आयातील लील’आलमीन” – [सूरह ३० रूम आयात २२] – @[156344474474186:]
(तर्जुमा: की अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त की आयतों और निशानियों में से है की उसने आसमान और ज़मीन को पैदा किया और तुम्हारी ज़ुबानों और रंगत का इख्तिलाफ भी अल्लाह की निशानी है )

क्यूंकि ये ज़ुबान भी एक तास्सुफ़ की बुनियाद बनती है! और आज यही मुआमला है मुसलमानो का!
मुसलमान भी आपस में तस्सुफ़ करता है ज़ुबान की बुनियाद पर !
की वो फलाह ज़ुबान के बोलने वाले है और हम फलाह ज़ुबान वाले,.. सुभान अल्लाह !!!

हमे बताइये क्या हमारे दींन और शरीयत ने ज़ुबान का तास्सुफ़ दिया हमे?
क्या किसी रिवायत में आता है की फलाह ज़ुबान इस्लामी ज़ुबान है और फलाह ज़ुबान इस्लामी नहीं है?
अल्लाह रहम करे !!! के ज़ुबानों का इख्तिलाफ इस हद तक पहुँच गया की कुछ लोग कुछ चीज़ों की तालीम हासिल नहीं करते इसलिए की वो ज़ुबान फलाह लोगों की है ,..
वो ज़ुबान यहूदियों की है वो ज़ुबान नसरानियों की है ,..

लेकिन सवाल तो ये है की रब फ़रमाता है की तुम्हारी ज़ुबानों का इख्तिलाफ ये तो मेरी निशानी है!!
फिर क्यों कर हमने इस मुआमलो में इख्तिलाफ करते रहते है ?

कोई हिंदी बोलता है,.. कोई मराठी कोई उर्दू, अरबी, तेलगु, मलयालम, स्पेनिश, जापानी और न जाने कितने ज़ुबान तुम बोलते हो ,..
एक-एक लफ्ज़ को कितनी नामों से पुकारते हो !!!
यह भी अल्लाह की निशानी है

वो रब है जिसने हमारे ज़ेहनो में यह बाते डाली और हमारी ज़ुबानों को पैदा किया ,..
अफ़सोस की हमने इस इख्तिलाफ को तास्सुफ़ का मौजू बना दिया !

जबकि यह इख्तिलाफ की चीज़ नहीं है बल्कि हर ज़ुबान (लैंग्वेज) अल्लाह की तरफ से है !
लिहाज़ा हमे चाहिए की इस तास्सुफ़ से बचे क्यूंकि आलमी अमन के खिलाफ ज़ुबान का तास्सुफ़ यह बहुत बड़ी वजह बनती है!!

# इंशा अल्लाह-उल-अज़ीज़ !! अल्लाह ताला हमे पढ़ने सुनने से ज़्यादा अमल की तौफ़ीक़ दे!
जब तक हमे ज़िंदा रखे इस्लाम और ईमान पर ज़िंदा रखे !
खातत्मा हमारा ईमान पर हो ,..
!!! व अखीरु दवना अनिल्हम्दुलिल्लाहे रब्बिल अ’लमीन !!!

Views: 4744

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar

wpDiscuz