"the best of peoples, evolved for mankind" (Al-Quran 3:110)
Browsing Tag

Short Hadees

Imaanwalo ko Chahiye ke Allah hi par Bharosa rakhe

♥ Al Quran

*Bismillahi-r-Rahmani-r-Rahim*
“Agar Allah Tumhari Madad kare to koi tumpar Galib aa nahi sakta, aur agar woh tumhe chorr de tou fir koun hai jo uske siwa tumhari madad kar sake, tou Imaanwalo ko Chahiye ke Allah hi par Bharosa rakhe”
– (Surah Aale Imran: Aayat 160)

♥ अल कुरान

*बिस्मिल्लाह अर्रहमान निर्रहीम*
“यदि अल्लाह तुम्हारी सहायता करे, तो कोई तुमपर प्रभावी नहीं हो सकता। और यदि वह तुम्हें छोड़ दे, तो फिर कौन है जो उसके पश्चात तुम्हारी सहायता कर सके। अतः ईमानवालों को अल्लाह ही पर भरोसा रखना चाहिए “
– (सुरह आले इमरान: आयत 160)

Allah Ke Siwa Tumhara Koi Bhi Himayati Aur Madad Karne Wala Nahi Hai

♥ Al Quran

*Bismillahi-r-Rahmani-r-Rahim*
“Kya Tumhe Pata Nahi Ki Aasmano aur Zameen Ki Badshahi Allah Hi Ki Hai, aur Allah Ke Siwa Tumhara Koi Bhi Himayati aur Madad Karne Wala Nahi Hai”
– (Surah Bakrah, Aayat-107)

♥ अल कुरान

*बिस्मिल्लाह अर्रहमान निर्रहीम*
“क्या तुम्हे पता नहीं की आसमान और ज़मीन की बादशाही अल्लाह ही की है, और अल्लाह के सिवा तुम्हारा कोई भी हिमायती और मदद करने वाला नहीं है”
– (सुरह बकराह: आयत-107)

Maaldaar ki taraf se Qarz ke Ada Karne me deri na kare

♥ Mafhoom-e-Hadees

Abu Hurairah (Radi Allahu Anhu) Se Riwayat Hai Ki Nabi-e-Kareem (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ne Farmaya,
“Maaldaar Ki Taraf Se Qarz Ke Ada Karne me Deri Karna Zulm aur Zyadati Hai.”
– (Sahih Al-Bukhari, 2400)

♥ मफहूम-ऐ-हदीस

अबू हुरैरा (रज़ीअल्लाहु अन्हु) से रिवायत है के, रसूलअल्लाह (सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम) ने फरमाया,
“मालदार की तरफ से क़र्ज़ अदा करने में देरी करना ज़ुल्म और ज्यादती है”
– (सही अल-बुखारी, 2400)

Jo mere Hidayat ki Pairvi karega

♥ Al Quran

*Bismillahi-r-Rahmani-r-Rahim*

Allah Ta’ala Quran me farmata hai:

“Jo mere Hidayat ki pairvi karega Wo Kabhi Gumrah nahi hoga“
– (Surah Taha: Aayat 123)

Allah Ta’ala hume Amal ki Taufik Dey,.aur har kism ki Gumrahi se bachaye,.. Ameen

♥ अल कुरान

*बिस्मिल्लाह अर्रहमान निर्रहीम*

अल्लाह रब्बुल इज्ज़त कुरान में फरमाता है:

“जो मेरे हिदायत(कुरान) की पैरवी करेगा वो कभी गुमराह नहीं होगा”
– (सुरह तहा: आयत 123)

*अल्लाह तआला हमे अमल की तौफीक दे , और हर किस्म की गुमराही से बचाए,.. आमीन

Aasmano aur Zameen ki har cheez Allah hi ki hai

♥ Al Quran

*Bismillahi-r-Rahmani-r-Rahim*
“Aasmano aur Zameen ki har cheez Allah hi ki hai. Tumharey Dilo me jo kuch hai usey tum Zaahir karo ya chupaao, Allah us ka Hisaab tum sey lega. Phir jisey chahey bakshey aur jisey chahey Saza de aur Allah har cheez par Qaadir hai “
– (Surah Baqrah: Aayat 284)

♥ अल कुरान

*बिस्मिल्लाह अर्रहमान निर्रहीम*
“आसमानों और ज़मीन की हर चीज़ अल्लाह ही की है, तुम्हारे दिलों में जो कुछ है उसे तुम जाहिर करो या छुपाओ, अल्लाह उसका हिसाब तुमसे लेगा, फिर जिस को चाहे बख्श दे और जिस पर चाहे अज़ाब करे, और अल्लाह हर चीज़ पर क़ादिर है”
– (सुरह बकराह: आयत 284)

Gaaye ke Doodh me shifa hai

♥ Hadees-e-Nabvi (ﷺ)

RasoolAllah (Salallahu Alaihi Wasallam) farmate hai,
“Gaay ka Dhoodh istemaal kiya karo, kyun ke us ke dhoodh me har bimaari se shifa(cure) hai.”
– (Mustadrak: 2147)

♥ हदीसे नबवी (ﷺ)

रसूलअल्लाह (सलल्लाहू अलैहि वसल्लम) फरमाते है,
“गाय का दूध इस्तेमाल किया करो, क्यूंकि उसके दूध में हर बीमारी से शिफा(cure) है”
– (मुस्तर्दक:8224)

Tum me se sab se acche log wah hai jo …

♥ Hadees-e-Nabvi (ﷺ)

Nabi-e-Kareem (Salallahu Alahi wasallam) farmate hai,
“Tum me se sab se acche log wah hai, jo Qarz ki adayegi ke muamle me acche ho”
– (Muslim, Hadees: 4195)

♥ हदीसे नबवी (ﷺ)

नबी ऐ करीम (सलाल्लाहू अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया,
“तुम में से सबसे अच्छे लोग वह है, जो क़र्ज़ की अदाएगी के मुआमले में अच्छे हो”
– (मुस्लिम, हदीस: 4195)

Rahmat ho uss Bande par jo Narmi Ikhtiyar kare

♥ Hadees-e-Nabvi (ﷺ)

Nabi-e-Kareem (Salallahu Alaihi Wasallam) farmate hai,
“Rahmat ho uss Bande par jo Bechney, khareedne aur Apna Haq Wasool karne me Narmi Ikhtiyar kare”
– (Bukhari, 2076)

♥ हदीसे नबवी (ﷺ)

नबी-ऐ-करीम (सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम) फ़रमाते है,
“रेहमत हो उस बन्दे पर जो बेचने, खरीदने और अपना हक वसूल करने में नरमी इख़्तियार करे”
– (बुखारी: 2076)

Jab kisi ko Halal Riqz ka Zariya mil jaaye to Khushi se Qabool kar le

♥ Hadees-e-Nabvi (ﷺ)

RasoolAllah (Salallahu Alaihi Wasallam) farmate hai,
“Jab kisi ko (Halal Riqz ka) koi Zariya mil jaaye to woh Us ko (khushi se) Ikhtiyaar kar le (Chaahe kum hi kyun na ho).”
– (Ibne Maaja: 2147)

♥ हदीसे नबवी (ﷺ)

रसूलअल्लाह (सलल्लाहू अलैहि वसल्लम) फरमाते है,
“जब किसी को हलाल (रिज्क का) कोई जरिया मिल जाये तो वो उसको (ख़ुशी से) इख्तेयार कर ले (चाहे कम ही क्यों न हो)”
– (इब्ने मजाह: 2147)

Jo Shakhs Rishtedaro ka Haq Ada karne ke liye Sadqe ka Darwaaza kholta hai

♥ Hadees-e-Nabvi (ﷺ)

RasoolAllah (Salallahu Alaihi Wasallam) farmate hai,
“Jo Shakhs Rishtedaro ka Haq Ada karne ke liye Sadqe ka Darwaaza kholta hai tou Allah Ta’ala us ki Doulat ko badha deta hai”
– (Musnade Ahmad: 9624)

♥ हदीसे नबवी (ﷺ)

रसूलअल्लाह (सलल्लाहू अलैहि वसल्लम) फरमाते है,
“जो शख्स रिश्तेदारों का हक अदा करने के लिए सदके का दरवाज़ा खोलता है तो अल्लाह तआला उस की दौलत को बढ़ा देता है”
– (मुस्नदे अहमद: 9624)